Top

शिप्रा ने क्राइम पेट्रोल देख छोड़ा था घर, जयपुर ले जा सकती है पुलिस

Admin

AdminBy Admin

Published on 4 March 2016 4:43 AM GMT

शिप्रा ने क्राइम पेट्रोल देख छोड़ा था घर, जयपुर ले जा सकती है पुलिस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: सेक्टर-37 से सोमवार को गायब हुई फैशन डिजाइनर शिप्रा मलिक चार दिन बाद गुड़गांव में मिल गई है। डीआईजी लक्ष्मी सिंह ने प्रेस कांफ्रेस में बताया कि फाइनेंसियल प्राॅब्लम के कारण शिप्रा ने खुद 2 दिन पहले घर छोड़ने का प्लान बनाया था। उसकी किडनैपिंग नहीं हुई थी। शिप्रा ने क्राइम पेट्रोल के एक सीरियल को देखकर पूरा प्‍लान तैयार किया था। सूत्रों की मानें तो पुलिस इस पूरे मामले की छानबीन के लिए फैशन डिजाइनर को जयपुर ले जा सकती है।

जयपुर के एक आश्रम में रुकी थी शिप्रा

-शिप्रा 29 तारीख को रात 1:35 बजे एटीएम यूज करने के बाद अपने घर सेक्‍टर-29 आई।

-घर पे कार खड़ी करने के बाद बोटैनिकल गार्डन से बस लेकर डीएनडी होते हुए धौला कुआं पहुंची।

-वहां से राजस्थान स्टेट के लिए बस लेकर जयपुर पहुंची।

-शिप्रा वहां के एक आश्रम(शिप्रा खाटू श्‍याम मंदिर) में दो दिन रुकी।

फोन कर दी हस्बैंड को जानकारी

-जयपुर में उसने अपने किडनैपिंग के बारे में खबरें देखीं।

-गुरुवार की शाम 5 बजे जयपुर से गुड़गांव के लिए बस पकड़ी और रात 11 बजे झज्‍जर में उतर गई।

-शिप्रा वहां 4-5 लोगों से मिली और उनकी मदद से सुल्‍तानपुर गांव पहुंची।

-गांव के सरपंच के घर से शिप्रा ने रात 2 बजे अपने हस्बैंड को लोकेशन दी ।

-इसके बाद एसएसपी किरण एस पुलिस फोर्स के साथ शिप्रा को लेने पहुंची।

-शुक्रवार की सुबह उसका मेडिकल चेकअप भी हुआ जिसमें सब कुछ नार्मल निकला।

डाईजी ने पीसी में क्‍या कहा?

-परिवार में फाइनेंसियल क्राइसिस होने की वजह से डिस्प्यूट था।

-शिप्रा ने खुद घर छोड़ने का प्लान बनाया था। उसकी किडनैपिंग नहीं हुई थी।

-बाकी बयानों की वेरिफिकेशन की जा रहा है।

-शिप्रा के भाई शिवांग से पूछताछ हो रही है।

-शिवांग के दोस्‍त सनी से भी पूछताछ की जा रही है।

हस्‍बैंड ने स्‍वीकार की फाइनेंसियल प्रॉब्लम

-शिप्रा के हस्‍बैंड चेतन को पुलिस ने क्लीन चिट दे दी है।

-पति ने भी घर में फाइनेंसियल प्रॉब्लम की बात स्‍वीकार की है।

डीजीपी ने की थी पूरे मामले की मॉनिटरिंग

-सीएम अखिलेश यादव के निर्देश पर डीजीपी जावीद अहमद इस पूरे मामले की मॉनिटरिंग खुद कर रहे थे।

-शिप्रा का फोन सर्विलांस पर था और उसके सभी फैमिली मेंबर्स पर कड़ी निगरानी रखी जा रही थी।

-दो दिन की छानबीन के बाद गुरुवार को पुलिस के हाथों एक और अहम सुराग लगा था।

-बैंक की सीसीटीवी फुटेज से ये साफ हो गया था कि शिप्रा ने अपना लॉकर आपरेट किया।

-29 फरवरी को शिप्रा ने आईएनजी व्यासा बैंक में दोपहर 1ः25 मिनट पर अपना लॉकर ऑपरेट किया था।

क्या है मामला ?

डिजाइनिंग के काम से शिप्रा को दिल्ली स्थित चांदनी चौक जाना था।

सोमवार दोपहर शिप्रा अपनी सफेद स्विफ्ट कार से दिल्ली के लिए अकेली निकल गई।

करीब दो बजे वह थोड़ी देर के लिए सेक्टर-29 स्थित ब्रह्मपुत्रा मार्केट में पति चेतन से मिलने के लिए रुकी।

वहां पहले से ही पति चेतन मौजूद थे। चेतन से मिलने के बाद वह दिल्ली के लिए रवाना हो गई।

दोपहर 2ः56 मिनट पर चेतन सेक्टर-29 स्थित विजया इंक्लेव के पास से अपने घर की ओर जा रहे थे।

उन्होंने देखा कि विजया इंक्लेव के ठीक सामने सड़क के किनारे उनकी पत्नी शिप्रा की सफेद स्विफ्ट कार लावारिस खड़ी थी।

पास जाकर देखा तो ड्राइवर सीट के पास की गेट का विंडो खुला हुआ था और कार में कोई भी नहीं था।

चाभी ब्रेक के पास नीचे पड़ी हुई थी।

शिप्रा के मोबाइल से उसी इलाके से दिल्ली पुलिस कंट्रोल रूम को 10 सेकेंड के लिए कॉल की थी।

Admin

Admin

Next Story