Top

पुलिस ने पहली बार आरोपियों का डमी के साथ री-क्रिएट किया रेप-मर्डर सीन

Admin

AdminBy Admin

Published on 23 Feb 2016 6:09 AM GMT

पुलिस ने पहली बार आरोपियों का डमी के साथ री-क्रिएट किया रेप-मर्डर सीन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: RLB स्टूडेंट की हत्या के मामले की जांच कर रही पुलिस ने मंगलवार को एक डमी के साथ आरोपियों से रियल टाइम क्राइम सीन री- क्रिएट करवाया। ये पहली बार था जब राजधानी पुलिस ने किसी रेप-मर्डर केस को सुलझाने के लिए डमी री-क्रिएशन का सहारा लिया। गिरफ्तार किए गए दोनों रिक्शाचालकों को उस स्पॉट पर ले जाया गया, जहां स्टूडेंट के साथ रेप करने के बाद उसका मर्डर किया गया था। पुलिस ने साउंड टेस्टिंग से ये भी जानने की कोशिश की क्या जब स्टूडेंट के साथ दरिंदगी की जा रही थी तो उसकी चिल्लाने की आवाज सड़क तक पहुंची थी या नहीं।

री-क्रिएशन से एक बात पुख्ता हो गई कि रेप के वक्त उसकी चीखें लोहिया पथ पर दौड़ रहीं गाड़ियों के शोर में दब गईं होंगी। साउंड टेस्टिंग में ये पाया गया कि लोहिया पथ का एवरेज साउंड लेवल 70 डेसिबल के ऊपर का हैं, लेकिन सामान्य अवस्था में कोई भी इंसान 40 डेसिबल की आवाज ही निकाल सकता है। ऐसे में अगर स्टूडेंट मदद के लिए चिल्लाई भी होगी तो उसकी आवाज जंगलों में ही दबकर खत्म हो गई होगी। री-क्रिएशन में स्टूडेंट के चिल्लाने की आवाज हजरतगंज कोतवाली में तैनात महिला कॉन्सटेबल ने निकाली।

कैसे किया गया री-क्रिएशन ?

क्राइम सीन को दोहराने के लिए जानकीपुरम थाना प्रभारी गोपाल यादव कुछ लोगों के साथ एक महिला का डमी लेकर आए। इसके बाद उसे वही कपड़े पहनाए गए, जो घटना वाले दिन स्टू़डेंट ने पहने हुए थे। फिर रिक्शा चालकों और कैडीज के साथ रेप से लेकर मर्डर तक का पूरा सीन क्रिएट किया गया। ताकि इसे आरोपियों के खिलाफ सबूत के तौर पर कोर्ट में पेश किया जा सके।

री-क्रिएशन में कौन-कौन था मौजूद ?

मंगलवार सुबह 9 बजे सीएम आवास के पास पुलिस के आलाधिकारियों का जमवाड़ा लगने लगने लगा था। डीआईजी और एसएसपी समेत ज्यादातर पुलिस के आलाधिकारी मौके पर पहुंच चुके थे। उनके साथ एसपी क्राइम संजय कुमार और फोरेंसिक के एक्सपर्ट भी मौजूद थे।

अभी भी नहीं कबूली हत्या की बात

एसएसपी राजेश पांडेय ने बताया कि अभी तक इस बात का पता नहीं चल पाया है कि स्टूडेंट का मर्डर किसने किया। साथ ही अब तक इस बात का खुलासा भी नहीं हो पाया कि उसकी लाश को इन चारों में से सबसे पहले किसने देखा था। सबसे पहले इस बात की पुख्ता जानकारी जुटानी होगी कि शव को सबसे पहले किसने और कब देखा था। इन सभी बातों को खुलासा फोरेंसिक और मेडिको लीगल रिपोर्ट आने के बाद ही हो पाएगा।

नीचे की स्लाइड्स में देखिए, रियल टाइम क्राइम सीन री-क्रिएशन की कुछ और तस्वीरें...

10 08 03 02 12 05 04 11 01 07 06

Admin

Admin

Next Story