Top

इनकी वजह से यूपी राज्यसभा में निर्विरोध नहीं चुने जाएंगे माननीय

suman

sumanBy suman

Published on 31 May 2016 2:57 AM GMT

इनकी वजह से यूपी राज्यसभा में निर्विरोध नहीं चुने जाएंगे माननीय
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Yogesh Mishra Yogesh Mishra

लखनऊ: प्रीति महापात्रा। यह वह नाम है जो इस समय उत्तर प्रदेश के रास्ते राज्यसभा में जाने वाले हर प्रत्याशी को खटक रहा है। दरअसल सपा ने 7 उम्मीदवार, बसपा ने 2, कांग्रेस ने 1 उम्मीदवार उतारकर उम्मीद की थी कि बीजेपी एक उम्मीदवार उतारेगी और यह स्क्रिप्ट तैयार थी कि बिना चुनाव की आग के सभी माननीय हो जाएंगे, लेकिन प्रीति महापात्रा ने सारा खेल बिगाड़ दिया। प्रीती महापात्रा के नाम का पर्चा खरीदा जा चुका है और वह आखिरी दिन नामांकन कर क्लाइमेक्स को एंटी क्लाइमेक्स बनाने वाली हैं। प्रीति महापात्रा निर्दलीय उम्मीदवार हैं पर बीजेपी उनका समर्थन करने वाली है। अब प्रीति के पर्चा भरते ही माननीयों को चुनावी दंगल में उतरना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें... दामाद के लिए सोनिया का मोदी को चैलेंज,कहा- कोई भी जांच करा ले सरकार

कौन हैं प्रीति महापात्रा

प्रीति महापात्रा गुजरात की रहने वाली हैं। वह गुजरात के बड़े बिजनेसमैन हरिहर महापात्रा की पत्नी हैं और खुद भी बिजनेस वीमन हैं। वह कृष्णलीला फाउंडेशन नाम की एक गैरसरकारी संस्था भी चलाती हैं। यह फाउंडेशन टॉयलेट मिशन के तहत कई राज्यो में काम करती है। यह फाउंडेशन मुख्य रुप से गुजरात, महाराष्ट्र और ओडिशा में सक्रिय है। हाल में ही इसने नवसारी जिले में 10 हजार टॉयलेट बनवाकर सुर्खियां बटोरी थीं। हरिहर महापात्रा को बीजेपी के काफी नजदीक माना जाता है।

यह भी पढ़ें...2 साल में सिब्बल की संपत्ति बढ़ी 70 करोड़, गाड़ी-बंगला और प्रॉपर्टी की ये है पूरी डिटेल

प्रीति महापात्रा का सियासी गणित दरअसल बीजेपी के 7 बचे विधायकों, सपा के एक बागी विधायक और एक छोटी पार्टी के अकेले विधायक के साथ ही रालोद के 8 विधायकों पर टिका था। इसके साथ ही उनकी नज़र बसपा के बाकी बचे 12 विधायकों पर भी थी।

यह भी पढ़ें... बहनजी से ज्यादा सतीश के पास ‘माया’, महासचिव ने जुटा ली दोगुनी दौलत

क्यों कर रही है बीजेपी प्रीति महापात्रा की बैकिंग

प्रीति महापात्रा का समर्थन करने के लिए उनका गुजरात बैकग्राउंड, टॉयलेट मिशन उनके परिवार की बीजेपी से करीबी के अलावा भी बीजेपी की रणनीति कुछ और भी है। प्रीति का समर्थन करने के पीछे रणनीति यह क्रॉस वोटिग के जरिए अब पार्टियां एक्सपोज हो जाए। अगर बीजेपी समर्थित उम्मीदवार जीत जाती हैं तो यह संदेश जाएगा कि विधायकों के बीच तो माहौल बीजेपी का है। वैसे अगर वह नहीं भी जीतती तो कम से कम क्रॉसवोटिंग कर सेंध लगाने का संदेश तो दिया ही जाएगा।

यह भी पढ़ें... RS चुनावः बीजेपी को छोड़ हर पार्टी ने किया मुस्लिमों को नजरअंदाज

यह भी पढ़ें... अब CM के खिलाफ विवादित पोस्टर, हाथी से भागते दिखे अखिलेश

suman

suman

Next Story