×

प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी राज्य उच्च शिक्षा परिषद के अध्यक्ष नियुक्त

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय वाराणसी के पूर्व कुलपति प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी को उत्तर प्रदेश राज्य उच्च शिक्षा परिषद में अध्यक्ष के रूप में नामित किया है। अध्यक्ष के रूप में गिरीश चंद्र त्रिपाठी की नियुक्ति तीन वर्ष की अवधि के लिए की गई है।

राम केवी

राम केवीBy राम केवी

Published on 25 Jan 2020 2:07 PM GMT

प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी राज्य उच्च शिक्षा परिषद के अध्यक्ष नियुक्त
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय वाराणसी के पूर्व कुलपति प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी को उत्तर प्रदेश राज्य उच्च शिक्षा परिषद में अध्यक्ष के रूप में नामित किया है। अध्यक्ष के रूप में गिरीश चंद्र त्रिपाठी की नियुक्ति तीन वर्ष की अवधि के लिए की गई है।

प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी का परिचय

बीएचयू के कुलपति रह चुके प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर हैं। वह केंद्रीय यूनिवर्सिटीज के शिक्षक संघों (फेडकुटा) के अध्यक्ष भी रहे हैं।

इसे भी पढ़ें

यूपी की राज्यपाल ने बीएचयू के प्रो. आलोक कुमार राय को एलयू का वीसी नियुक्त किया

बजट संबंधी मामलों के जानकार प्रो. त्रिपाठी देश के कई बड़े सेमिनार एवं पैनल डिस्कशन में शामिल हो चुके हैं। उन्होंने 1974-75 में इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन इंग्लिश, इकॉनोमिक्स और संस्कृत विषयों में पास किया।

प्रो. गिरीश चंद्र त्रिपाठी ने 1975-76 में अर्थशास्त्र में एमए की परीक्षा पास करने के बाद इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में प्रो. बालकृष्ण त्रिपाठी के निर्देशन में पीएचडी पूरी की। 1982 में इलाहबाद यूनिवर्सिटी में लेक्चरर नियुक्त होने वाले डॉ. गिरीश त्रिपाठी 1999 में अर्थशास्त्र विभाग में प्रोफेसर नियुक्त हुए। प्रो. त्रिपाठी सीतापुर जिले के मूल निवासी होने के साथ इलाहाबाद शहर में अनेक शैक्षिक संस्थाओं से जुड़े रहे हैं।

इसे भी पढ़ें

नैक में फेल तो उच्च शिक्षा संस्थानों को नहीं मिलेगा अनुदान

प्रो. गिरीश चन्द्र त्रिपाठी ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय के कुलपति का कार्यकाल पूरा होने के बाद वापस लौटकर इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र विभाग को फिर से ज्वाइन कर लिया है। इस तरह प्रो. त्रिपाठी की वापसी इविवि के अपने मूल विभाग अर्थशास्त्र में हो गई है। प्रो. त्रिपाठी के तमाम रिसर्च पेपर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशित हुए हैं। तमाम शिक्षक नेताओं ने प्रो. त्रिपाठी की नियुक्ति का स्वागत किया है।

राम केवी

राम केवी

Next Story