×

पधारो म्हारो देश: यहां नहीं घूमे तो जीना बेकार, वाकई मजा आ जाएगा

राजस्थान घूमने का सबसे अच्छा समय नवंबर से फरवरी होता है। इसके अलावा यहां किले, महल, कठपुलती डांस, बाजार और लाजवाब खानपान जैसी कई अनगिनत चीज़ें हैं जो आपके ट्रिप को यादगार बनाने में मदद कर सकता है । तो क्यों न इस बारआप राजस्थान घूमने का प्लान बनाएं।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 22 Jan 2020 10:53 AM GMT

पधारो म्हारो देश: यहां नहीं घूमे तो जीना बेकार, वाकई मजा आ जाएगा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: राजस्थान के शाही ठाट-बाट का आनंद लेना चाहते हैं, तो अभी बनाए पर्यटन का प्लान। ठंड में घूमने के लिए, राजस्थान अच्छी जगह ​है। यहां किले, महल, कठपुलती डांस, बाजार और लाजवाब खानपान जैसी कई अनगिनत चीज़ें हो, जो आपके ट्रिप को और भी रोमांचक बना देगा। तो चलिए जानते है उसके बारे में

राजस्थान घूमने का सबसे अच्छा समय नवंबर से फरवरी होता है। इसके अलावा यहां किले, महल, कठपुलती डांस, बाजार और लाजवाब खानपान जैसी कई अनगिनत चीज़ें हैं जो आपके ट्रिप को यादगार बनाने में मदद कर सकता है । तो क्यों न इस बारआप राजस्थान घूमने का प्लान बनाएं।

राजस्थान कुंभलगढ़ किला-

कुंभलगढ़ का किला 15वीं शताब्दी में राणा कुंभा ने बनवाया था। इस किले की दीवार विश्व की दूसरी सबसे बड़ी दीवार है जो 36 किलोमीटर लम्बी है और 15 फीट चौड़ी है। किले के अंदर 360 से ज्यादा मंदिर हैं जिनमें से 300 प्राचीन जैन मंदिर और बाकि हिन्दू मंदिर हैं।

ये भी पढ़ें—कतर सबसे सेफ देश, वेनेजुएला सबसे खतरनाक

यह एक अभेद्य किला है जिसे दुश्मन कभी नहीं जीत पाए। किले के चारों ओर बड़ी दीवार बनी हुई है जो चीन के बाद विश्‍व की दूसरी सबसे बड़ी दीवार है।

राजस्थान का सरिस्का नेशनल पार्क-

राजस्थान के अलवर से करीब 35 किलोमीटर दूर स्थित सरिस्का पार्क प्रकृति एवं वन्यजीव प्रेमी सैलानियों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र है। इस पार्क में बाघ, चीतल, सांभर, हिरन, नीलगाय, जंगली सूअर तथा अन्य वन्य जीवों को भी स्वच्छंदता से घूमते-फिरते देखा जा सकता है।

यहां एक भव्य राजभवन है, जिसका निर्माण महाराजा जयसिंह ने ड्यूक ऑफ एडिनबरा की शिकार-यात्रा के उपलक्ष्य में कराया था। आज के समय में इसे होटल सरिस्का पैलेस में परिवर्तित कर दिया गया है। यहां राजस्थान पर्यटन विकास निगम का होटल 'टाइगर डेन' भी पर्यटकों के लिए उपलब्ध है।

राजस्थान का बुलेट बाबा मंदिर-

जोधपुर के नज़दीक पाली से 20 किलोमीटर दूर बुलेट बाबा मंदिर बहुत ही अनोखी जगह है, जहां 350cc रॉयल एनफील्ड की पूजा होती है। यह मंदिर ओम बना को समर्पित है जिनकी एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी।

ऐसा कहते हैं कि पुलिस उनकी मोटरसाइकिल को थाने लेकर आई थी लेकिन अगली सुबह वह बाइक उसी दुर्घटना स्थल पर मिली थी। ऐसा एक नहीं कई बार हुआ अंत में पुलिस को इसे ओम बना के आत्मा की इच्छा मानकर वहीं छोड़ना पड़ा।

ये भी पढ़ें—मोदी कैबिनेट का बड़ा फैसला, ये सरकारी कंपनी होगी बंद, यहां भी लागू होगा GST

राजस्थान का डेजर्ट में नाइट कैंपिंग-

राजस्थान के जैसलमेर आकर आप दिन से लेकर रात तक अद्भुभुत नजारे देख सकते हैं। वहां के ढलते सूरज और कैमल राइडिंग के अलावा रात होते ही रंगारंग कार्यक्रम देखने को मिल सकता हैं। यहां अगर आप जाएं तो होटल और होमस्टे की जगह कैंपिंग में ठहरने का आनंद जरुर लें।

राजस्थान में किले और महलों की कमी नहीं, जिनमें से अब कई महलों और किलों को हेरिटेज होटल में बदल दिया गया है जहां रुककर आप शाही ठाट-बाट का आनंद ले सकते हैं। जयपुर के अलावा जोधपुर, उदयपुर में ऐसे कई ऑप्शन अवेलेबल हैं।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story