Top

भारत माता की जय बोलने पर नरम पड़े भागवत, कहा- इसे किसी पर थोपा ना जाए

Admin

AdminBy Admin

Published on 28 March 2016 5:59 AM GMT

भारत माता की जय बोलने पर नरम पड़े भागवत, कहा- इसे किसी पर थोपा ना जाए
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: आरएसएस चीफ मोहन भागवत एक दिन पहले दिए अपने ही बयान पर नरम पड़ गए। उन्होंने रज्जू भैय्या स्मृति भवन के उद्घाटन के दौरान कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा ''भारत माता की जय बोलना किसी पर थोपे नहीं, बल्कि कार्यकर्ता ऐसे आर्दश काम करें कि उन्हें देखकर लोग खुद भारत माता की जय बोलें।''

इससे पहले रविवार को उन्होंने कोलकाता में कहा था, ''मैं चाहता हूं कि पूरा विश्व भारत माता की जय बोले। मैं भारत को शोषण मुक्त और आत्मसम्मान से भरा हुआ देखना चाहता हूं।''

ये भी पढ़ें: दारुल उलूम देवबंद ने कहा-भारत माता की जय पर ओवैसी चमका रहे हैं सियासत

और क्या बोले भागवत ?

-योग्यता पेदा करने का काम श्रेष्ठ लोगों ने किया ।

-आरएसएस के पूर्व प्रमुख रज्जू भैया अपने भाषणों से ही श्रेष्ठ नहीं थे।

-अच्छे विचारों को उन्होंनें जीवन में उतारा था ।

-कार्यालय के वातावरण में वरिष्ठ लोगों की अनुभूति होनी चाहिए।

-राष्ट्रवाद के विचार के लिए कार्यालय का लोकार्पण हुआ है ।

-भवन के रखरखाव और सफाई पर ध्यान देना होगा ।

-अटलजी और रज्जू भैया ने आदर्श प्रस्तुत किया ।

-उनके आदर्श के अनुसार ही काम करना होगा।

-किसान दुनिया का पेट भरने के लिए खेती करता है।

-खेती करो इससे बाकी लोगों का भी पेट भरेगा और तुम्हारा भी।

-दुनिया ने आस्तिक और नास्तिक दोनों रास्ते पर चलकर देख लिया। अब तीसरा रास्ता ढूंढ रहा है।

-ये तीसरा रास्ता भारत से मिलेगा। आने वाली दुनिया के लिए जीवन का उदाहरण खड़ा करना है।

नीचे स्लाइड्स में देखिए, भागवत के लखनऊ दौरे की कुछ और तस्वीरें...

[su_slider source="media: 19618,19623,19620,19619,19622,19621" width="620" height="440" title="no" pages="no" mousewheel="no" autoplay="0" speed="0"] [/su_slider]

Admin

Admin

Next Story