×

सुल्तानपुर:रावण के पुतला दहन में सांडों ने मचाया उत्पात, टला हादसा

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 20 Oct 2018 8:29 AM GMT

सुल्तानपुर:रावण के पुतला दहन में सांडों ने मचाया उत्पात, टला हादसा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

सुल्तानपुर: गभाड़िया क्षेत्र में शुक्रवार को रावण के पुतला दहन के दौरान एक बड़ा हादसा होने से पहले ही टल गया। बताया जा रहा है कि गभाड़िया के ओवर ब्रिज पर दस सिर वाले रावण के पुतला दहन की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी थी। भारी संख्या में लोग रावण पुतला दहन देखने के लिए वहां पर जमा हो गये थे।

इसी बीच कहीं से छुट्टा जानवर दौड़ते हुए वहां पर आ गये और उत्पात मचाने लगे। सांडों को देखकर लोग इधर -उधर भागने लगे। पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद किसी तरह से जानवरों पर काबू पाया। उसके बाद जाकर लोगों ने राहत की सांस ली।

सांडों ने जमकर मचाया उत्पात

नगर के गभड़िया ओवर ब्रिज पर दशहरे का त्योहार धूमधाम से मनाया गया। इस दौरान रावण दहन को देखने के लिये हजारों की संख्या में लोग एकत्रित थे। तभी तभी छुट्टा सांड दौड़ते हुए वहां पर आ गये। लोग अपनी जान बचाने के लिए इधर -उधर भागने लगे।

पुलिस लाठियां भांजते हुए उनकी तरफ दौड़ी। तब जाकर जानवर वहां से भागे। इसके बाद वहां खड़े लोगों ने राहत की सांस ली। इस मामले में कांजी हाउस की लापरवाही की बात भी उजागर हुई है।

ये भी पढ़ें...‘कुशभवनपुर’ के नाम से जाना जाएगा सुल्तानपुर, देवमणि ने विधानसभा में रखा प्रस्ताव

राम-रावण की सेना में हुआ युद्ध

इसके पहले नगर से घूमते हुये राम और रावण की सेना अलग-अलग रास्ते से होते हुये नगर के गभड़िया ओवर ब्रिज पहुंची। जहां दोनों में युद्ध हुआ, जिसके बाद राम ने रावण का दहन किया। इस दौरान काफी संख्या में भारी पुलिस बल तैनात रही। जगह-जगह सुरक्षा के चाक-चौबंद किया गया था।

रावण के प्रतीकात्मक पुतले का हुआ दहन

शहर में दशहरे के त्योहार को धूमधाम से मनाया गया। राम-रावण युद्ध के बाद अत्याचार और बुराई के प्रतीक रावण का प्रतीकात्मक पुतला दहन किया गया। इस दौरान बड़ी संख्या में शहर और ग्रामीण क्षेत्र की भीड़ मौजूद रही। पुलिस अधीक्षक और जिलाधिकारी की मौजूदगी में मेले का शुभारंभ किया गया। सुल्तानपुर में दुर्गा पूजा महोत्सव पूर्णिमा तक चलेगा।

ये भी पढ़ें...सुल्तानपुर : स्वराज आंदोलन के दौरान बापू को सुना था यहां के लोगों ने

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story