Top

मथुरा-पलवल के बीच टैल्गो ट्रेन का दूसरा ट्रायल, 130 की स्पीड से दौड़ी

By

Published on 9 July 2016 9:37 AM GMT

मथुरा-पलवल के बीच टैल्गो ट्रेन का दूसरा ट्रायल, 130 की स्पीड से दौड़ी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

[nextpage title="next" ]semi high speed train

मथुरा: स्पेन से लाई गई सेमी हाई स्पीड ट्रेन टैल्गो का शनिवार को दूसरा ट्रायल मथुरा से पलवल के बीच हुआ। टैल्गो ट्रेन का पहला ट्रायल बरेली से हुआ था। दूसरे चरण का ट्रायल एक महीने तक होगा। शनिवार को ट्रायल में ट्रेन की रफ्तार 130 किलोमीटर प्रति घंटे रही। इसने 47 मिनट में 84 Km का सफर तय कि‍या। यह मथुरा से पलवल की दूरी को एक घंटे से भी कम समय मे दूरी को तय करने वाली पहली हाई स्पीड ट्रेन है। जिसके बाद टैल्गो ट्रेन का फाइनल ट्रायल मुंबई-दिल्ली ट्रैक पर होगा। यह ट्रेन 12:40 पर मथुरा जंक्शन से पलवल के लिए रवाना हुई जो अपने निर्धारित समय से 1 घण्टा 40 मिनट लेट थी।

ट्रेन में हैं 9 कोच

-टैल्गो के ई डी अनिल सक्सेना ने बताया कि इस ट्रेन मे 9 कोच हैं।

-जिनमे चार एसी और दो कोच लक्जरी होंगे जबकि बाकी कोच जनरल के होंगे।

-अनिल सक्सेना ने बताया कि इस ट्रेन के कोच बड़े ही कम वजन के हैं। जिससे ट्रेन आसानी से मोड़ी जा सकेगी।

-इसलिए यह लोगों के लिए सुरक्षित होगी और इससे दुर्घटना से बचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें ... VIDEO:115 के स्पीड से दौड़ी टेल्गो ट्रेन, 3 ट्रायल के बाद होगी 200 पार

बरेली में हुआ था ट्रायल

-स्‍पेन से लाई गई सेमी हाई स्‍पीड टैल्‍गो ट्रेन पहली बार इंडियन रेलवे ट्रैक पर 27 मई 2016 को दौड़ी।

-ट्रेन ने सेंसर ट्रायल के तौर पर बरेली के इज्‍जतनगर स्‍टेशन से सफर शुरू किया, जो 30 किमी दूर देवरनियां पर खत्‍म हुआ।

-ट्रेन भोजीपुरा स्‍टेशन तक 40 किमी की स्‍पीड से और फिर देवरनियां तक 62 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ी।

-ट्रायल के दौरान स्‍पेन से लाए गए ट्रेन के 5 कोचों में रेत के बोरे रखे गए थे।

-सेंसर ट्रायल के दौरान इस स्‍पेशल ट्रेन में दो खास इंडियन इंजन ही लगाए गए थे।

-एक इंजन पहले छोर और दूसरा अंतिम छोर पर लगाया गया था।

-दोनों इंजन 250 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकते हैं।

-ट्रायल के दौरान आरडीएसओ, लखनऊ से एक टेक्निकल टीम भी बरेली आई थी।

आगे की स्लाइड्स में देखिए और फोटोज और वीडियो...

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

semi high speed train

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

semi high speed train

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

देखिए वीडियो

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

semi high speed train

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

semi high speed train

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

semi high speed train

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

semi high speed train

[/nextpage]

Next Story