Top

देवी तालाब में मरी मिली हजारों मछलियां, अवैध व्यापार करने वालों पर शक

By

Published on 13 May 2016 4:42 PM GMT

देवी तालाब में मरी मिली हजारों मछलियां, अवैध व्यापार करने वालों पर शक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: लोगों की आस्था से जुड़े एक तालाब में हजारों मछलियों की मौत का मामला सामने आया है। ग्रामीणों का आरोप है कि कुछ मछुआरों ने तालाब में जहरीला पदार्थ डालकर इस मछलियों को मार डाला।

अहले सुबह ग्रामीणों ने देखा कि तलाब में मरी मछलियां तैर रही हैं तो उनका गुस्सा फूट पड़ा। पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस को भी ग्रामीणों के गुस्से का शिकार होना पड़ा।

बिधनू थाना क्षेत्र के कठारा गांव में 'देवी तालाब' के नाम से मशहूर यह तालाब मछलियों के लिए जाना जाता है। इस तालाब में ग्रामीण मछलियों के लिए रोजाना खाना डालते हैं। गांव वाले मछुआरों को तलब के आस-पास भटकने भी नहीं देते हैं।

ग्रामीणों के मुताबिक इस तालाब पर बीते कुछ दिनों से मछुआरो की नजर थी। जब मछुआरे मछली पकड़ने आए तो ग्रामीणों ने उन्हें पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया था। लेकिन बाद में वे किसी तरह छूट गए थे।

तालाब की मान्यता :

-गांव में एक देवी मंदिर के बगल में बने इस तालाब की बड़ी मान्यता है।

-गांव के प्रधान वीरपाल के मुताबिक इस तालाब में बड़ी संख्या में मछलियां हैं। इनकी देख-रेख ग्रामीण करते हैं और हर रोज इन्हें चारा देते हैं।

-मान्यता है कि जिस किसी पर केस चल रहा हो, शादी नहीं हो रही हो, निःसंतान हों या सुख-शांति के लिए इस तालाब में जो भी एक माह तक रोजाना चारा डालता है उसकी हर मुराद पूरी होती है।

fish-1

दूर-दूर से आते हैं लोग

-इस तालाब में देवी दर्शन के बाद बिधनू, घाटमपुर, कानपुर देहात और जहानाबाद से लोग मछलियों को चारा डालने आते हैं।

-शहर के बड़े-बड़े व्यापारी मन्नत पूरी होने के बाद यहां आते हैं और पूजा करते हैं।

12 किलो तक की मछलियां

-यह तालाब लगभग छह बीघे में फैला हुआ है लेकिन बारिश नहीं होने की वजह से पानी कम है लेकिन इसमें कई किस्म की बड़ी मछलियां हैं।

-इस तालाब में छोटी मछलियों से लेकर 12 किलो तक की मछलिया है l

क्या कहते हैं गांव वाले ?

-ग्रामीण पुष्पेंद्र ने बताया कि इन दिनों बिधनू में बहने वाली पांडू और रिंद नदी में पानी नहीं है।

-इस वजह से मछुआरों का काम ठप है।

-अब उनकी नजर इस तालाब पर है। वे दिन में कई बार वाहन लेकर आते थे और मछलियों को जाल में फंसा कर ले जाते थे।

-उन्होंने बताया कि कई ग्रामीणों ने मछुआरों को पकड़कर पीटा और पुलिस के हवाले कर दिया था।

fish-4

ग्रामीणों का आरोप

-गांव वालों का आरोप है कि मछुआरों ने बीते गुरुवार रात इस तालाब में जहरीला पदार्थ डाला था, जिस वजह से मछलियों की मौत हुई।

-वहीं बिधनू ब्लॉक और गांव के सेक्रेटरी विशाल वर्मा के मुताबिक इसकी रिपोर्ट्स ऊपर के अधिकारियों को दी जाएगी ताकि उनपर नकेल कसी जा सके।

क्या कहते हैं एसओ ?

बिधनू थाना के एसओ जीवाराम यादव के मुताबिक यदि ग्रामीण तहरीर देते हैं तो आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं पशु चिकित्सा टीम के अधिकारी एएन राठौर भी शनिवार को तालाब का निरीक्षण करने जाएंगे।

Next Story