Top

24 घंटे में हत्या के बदले हुई हत्या,पांच नामजद समेत आठ पर रिपोर्ट दर्ज

Admin

AdminBy Admin

Published on 14 March 2016 5:22 AM GMT

24 घंटे में हत्या के बदले हुई हत्या,पांच नामजद समेत आठ पर रिपोर्ट दर्ज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेलीः शेरगढ़ के गांव निर्गुआ गौटिया के कोटेदार बाबू खां की हत्या के आरोपी हिस्ट्रीशीटर फतेह खां की हत्या कर दी गई। रविवार शाम को उसका शव ब्यौधा गांव के जंगल में मिला। इस मामले में बाबू खां के परिजनों पर हत्या का केस दर्ज कराया गया है।

क्या है मामला?

-कोटेदार बाबू खां का शव शनिवार सुबह भोजीपुरा थाना क्षेत्र में रेलवे ट्रैक पर मिला था।

-उनकी हत्या गला दबाकर की गई थी।

-हत्या को आत्महत्या दिखाने के लिए शव को रेल पटरी पर डाला गया था।

-मृतक के बड़े भाई ने चुनावी रंजिश में हत्या का आरोप लगाते हुए गांव के फतेह खां पर केस दर्ज कराया था।

-शनिवार से ही दोनों की तलाश जारी थी।

-रविवार शाम जंगल में फतेह खां का शव मिला।

-उसकी गर्दन पर दबाए जाने के निशान हैं।

सुबह घर से निकला था

-परिजनों ने कहा कि फतेह खां सुबह करीब 11 बजे घर से अकेले ही बाइक से निकला था।

-वह पहाड़पुर में गुड्डू के घर बाइक खड़ी कर दो-तीन लोगों के साथ चला गया।

-इसके बाद मोरपाल के खेत के पास उसका शव मिला।

-ग्रामीणों के मुताबिक शाम को मोरपाल के खेत में कुछ लोगों को झगड़ते हुए देखा गया था।

-इसके बाद वे लोग चुनाव जीतने का नारा लगाते हुए वहां से चले गए।

दोनों परिवारों में थी पुरानी रंजिश

-कुछ साल पहले कोटेदार फतेह खां के परिवार ने अब्दुल रहमान की हत्या कर दी थी।

-इसे लेकर दोनों परिवार में रंजिश चल रही थी।

-ऐसे में जब बाबू खां की हत्या हुई तो आरोप फतेह खां और उसके भाई पर लगा।

पांच नामजद समेत आठ पर रिपोर्ट

-इस मामले में फतेह खां के चाचा माले खां ने थाने में तहरीर दी है।

-गांव के ही अली रजा खां, ताहिर, रहमत खां, फिरोज और हिरोज को नामजद किया है।

-साथ ही तीन अज्ञात पर भी केस दर्ज कराया गया है।

-ये सभी आरोपी कोटेदार बाबू खां के परिजन और रिश्तेदार हैं।

24 घंटे में ले लिया बदला

-गांव में चर्चा है कि बाबू खां की हत्या में फतेह खां नामजद था।

-बावजूद इसके वह गांव में ही घूम रहा था।

-बाबू खां पक्ष को यह नागवार गुजरा और उन लोगों ने उसकी हत्या कर दी।

क्या कहना है पुलिस का?

-पहली नजर में यह कोटेदार की हत्या का बदला लग रहा है।

-सीओ रात में थाना में कैंप करेंगे।

-आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीमें लगा दी गई हैं।

Admin

Admin

Next Story