×

UP बजट सत्र: होमवर्क करके आएं मंत्री, गलत जवाब से नहीं कराए सरकार की फजीहत

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 8 Feb 2018 3:55 AM GMT

UP बजट सत्र: होमवर्क करके आएं मंत्री, गलत जवाब से नहीं कराए सरकार की फजीहत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ : विधानमंडल के बजट सत्र में विपक्ष की रणनीति से निपटने के लिए मंत्री होमवर्क करके आएं। विषयों पर तैयारी के साथ बोलें। विपक्ष के सवाल पर सही जवाब दें। मंत्रियों के किसी भी गलत जवाब से सरकार की फजीहत नहीं होनी चाहिए। लोकभवन में भाजपा के विधानमंडल दल की बैठक में विधायकों को संबोधित करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने यह बात कही। बैठक में विधानसभा सत्र को लेकर विशेष रणनीति बनी।

विधायक बताएं अपनी 10 महीने की उपलब्धियां

सीएम योगी ने विधायकों से कहा कि वह विधानसभा में अपना पक्ष भी रखें। विधानसभा एक मंच है, जहां विधायक अपनी 10 महीने की उपलब्धियां पेश कर सकते हैं। हम जनता को अपने किए गए कामों के बारे में बताएंगे। सदन में विपक्ष नकारात्मक चर्चा करेगा। पर हमें पूरी तैयारी से आना है और उनका सही जवाब देना है। उन्होंने विधायकों से भी कहा कि वह कम बोलें पर सही बोलें। हर विधायक को सदन में बोलने के लिए 10—10 मिनट का समय उपलब्ध कराने का सुझाव भी दिया।

विधायकों की उपस्थिति सुनिश्चित हो

जानकारों के मुताबिक बैठक में यह भी कहा गया कि सदन में विधायकों की ज्यादा से ज्यादा उपस्थिति तय होनी चाहिए। सदन के समय अक्सर देखा जाता है कि विधायक अपनी सीट पर मौजूद नहीं रहते हैं। विधायकों को सदन में उपस्थित रहने को कहा गया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story