शिव के रंग में रंगी काशी, लाखों भक्तों ने चढ़ाया भोले बाबा को जल

Published by Newstrack Published: August 1, 2016 | 1:26 pm
Modified: August 10, 2016 | 3:02 am

वाराणसी: बारह ज्योतिर्लिंगो में एक है काशी के बाबा विश्वनाथ। जिनकी महिमा का बखान किसी के लिए भी असंभव है। पर उनका समीप्य और भक्ति तो हर को पाना चाहता है। सावन का दूसरा सोमवार और बाबा विश्वनाथ के दरबार में भक्तों की भीड़ ना उमड़े ये कैसे संभव हो सकता है। काशी विश्वनाथ के दरबार में आधी रात से भक्तों का हुजूम उमड़ा है सबमें बाबा पर जल चढ़ाने की होड़ लगी थी।

kashiq

कहते है कि सावन के दूसरे सोमवार को भगवान शिव अर्ध नारीश्वर के रूप में भक्तों को दर्शन देते हैं। इस पावन माह के दूसरे सोमवार को रात्रि से ही भक्तों मंदिर आना शुरू हो गया था। अब तक लाखों भक्त गंगा में डूबकी लगा कर बाबा का जलाभिषेक कर चुके है। मान्यता के मुताबिक सावन सोमवार को जो भी भक्त बाबा के मस्तक में जल, बेलपत्र, चावल, गुलाल, नवैद्य करता है उनकी मनमांगी मुराद पूरी होती है।

kashi23

काशी में साक्षात शिव का वास है इसलिए इन दिनों पूरी नगरी शिवमय हो गई है पूरा गंगा घाट और शहर केसरिया रंग से रंग गया है। कुछ लोग बाबा के दर्शन कर लिए तो कुछ दर्शन के इंतजार में लंबी लाइन में लगे है और पूरा मंदिर परिसर बाबा के जयकारे और बोलबम के नारे से गुंजायमान है।

shiv

 

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App