Top

अब नहीं आएगी शर्म, घर में शौचालय बनवाने के लिए बेच दिया मंगलसूत्र

Sanjay Bhatnagar

Sanjay BhatnagarBy Sanjay Bhatnagar

Published on 2 Jun 2016 11:17 AM GMT

अब नहीं आएगी शर्म, घर में शौचालय बनवाने के लिए बेच दिया मंगलसूत्र
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: पीएम नरेंद्र मोदी का 'घर घर शौचालय' अभियान पूरे देश में रंग ला रहा है। इसी अभियान से प्रेरित होकर एक महिला ने घर में शौचालय बनवाने के लिए मंगल सूत्र समेत अपने सारे जेवर बेच दिए। महिला की यह पहल अब दूसरों को भी प्रेरित कर रही है।

toilet in home-woman sells mangalsutra लता देवी: शौचालय के लिए बेचा मंगलसूत्र

बचपन का सपना

-घर में शौचालय लता देवी के बचपन का सपना था।

-लता कहती हैं, बचपन से ही उन्हें शौच के लिेए बाहर जाते हुए शर्म आती थी।

-लेकिन आर्थिक रूप से तंग मायके में उन्हें कभी शौचालय नहीं मिला।

-ससुराल की आर्थिक हालत भी ठीक नहीं थी, इसलिए शादी के बाद भी शौचालय नहीं मिला।

-लता देवी ने बताया कि महिलाओ के साथ शौच के दौरान रेप की घटनाएं उन्हें डराती थीं।

toilet in home-woman sells mangalsutra अब नहीं जाना होगा घर के बाहर

आर्थिक तंगी

-बिधनू के रामबाबू कपड़े धोने और प्रेस करने का काम करते हैं।

-रामबाबू के परिवार में पत्नी लता देवी के अलावा तीन बेटियां और एक बेटा है।

-तीनों बेटियों की शादी हो चुकी है और बेटा पढ़ रहा है।

-बेटियों की शादी लता ने शौचालय वाले घर में ही करने की ठान ली थी।

-तीनों बेटियों की शादी उन्होंने तभी कि जब घर में शौचालय होने की पुष्टि हो गई।

toilet in home-woman sells mangalsutra नहीं मिली शौचालय के लिए कहीं से मदद

ठान लिया शौचालय निर्माण

-बेटे की शादी से पहले भी उन्होंने घर में शौचालय बनवाने की ठानी, ताकि बहू को घर के बाहर न जाना पड़े।

-पति को कई बार तहसील दिवस पर भेजकर प्रार्थना पत्र भी दिया, पर कोई सुनवाई नही हुई।

-आखिर उन्होंने जेवर और दूसरी चीजें बेच कर शौचालय बनवा लिया।

-लता ने इसके लिए सुहाग की निशानी मंगलसूत्र, बिछिया, पायल और भैंस का बच्चा बेच कर दस हजार रुपए जमा किए थे।

Sanjay Bhatnagar

Sanjay Bhatnagar

Writer is a bi-lingual journalist with experience of about three decades in print media before switching over to digital media. He is a political commentator and covered many political events in India and abroad.

Next Story