पलायन की वजह से यहां खाली हो गए 1200 गांव, अब सरकार करने जा रही ये बड़ा काम

भारत रत्न गोविन्द बल्लभ पंत के खूंट गांव और सुमित्रानंदन पंत के कौशानी गांव में पर्यटकों को लुभाने की योजना बनाई जा रही है, ताकि यहां आने वाले लोग पर्यटन इतिहास को जाने और पारंपरिक घरों में रुकें।

Utrakhand Village

पलायन की वजह से यहां खाली हो गए 1200 गांव, अब सरकार करने जा रही ये बड़ा काम (फोटो:सोशल मीडिया)

देहरादून: उत्तराखण्ड के लिए पलायन एक बड़ी चुनौती बनकर उभरा है। पलायन की वजह से गांव-के-गांव तेजी से खाली हो रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में लोगों के पलायन की वजह से 1200 गांव और अकेले अल्मोड़ा में 274 गांव खाली हो चुके हैं। ऐसे गांवों को पहाड़ में भुतहा गांव की संज्ञा दी गई है।

जिसके बाद से अब यहां पर पर्यटकों को लुभाने की योजना बनाई जा रही है, जिससे आने वाले लोग पर्यटन इतिहास को जाने और पारंपरिक घरों में रुकें।

इस काम की जिम्मेदारी जीबी पंत हिमालय पर्यावरण संस्थान को सौंपी गई है। जिसके बाद से अब संस्थान इन खाली गांवों के पारम्परिक घरों को पर्यटन की संभावना तलाशने में जुटा है।

Utrakhand Village
पलायन की वजह से यहां खाली हो गए 1200 गांव, अब सरकार करने जा रही ये बड़ा काम (फोटो:सोशल मीडिया)

हरिद्वार कुम्भ 2021ः अखाड़ा परिषद के पदाधिकारियों ने किया निर्माण कार्यो का निरीक्षण

गोविन्द बल्लभ पंत और सुमित्रानंदन पंत के गांवों में पर्यटकों को लुभाने की योजना

भारत रत्न गोविन्द बल्लभ पंत के खूंट गांव और सुमित्रानंदन पंत के कौशानी गांव में पर्यटकों को लुभाने की योजना बनाई जा रही है, ताकि यहां आने वाले लोग पर्यटन इतिहास को जाने और पारंपरिक घरों में रुकें।

ये भी पता चला है कि राष्ट्रीय हिमालय अध्ययन मिशन के तहत संस्थान के वैज्ञानिक लोगों की आजीविका बढ़ाने के लिए इस तरह के प्रोजेक्ट चला रहे हैं, ताकि लोगों को स्थानीय स्तर पर ही रोजगार मिल सके। उन्हें अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए गांव छोड़कर न जाना पड़े।

हेयर ड्रेसर ने VHP नेता की काट दी चोटी, मचा बवाल, दर्ज हुई FIR

Utrakhand Village
पलायन की वजह से यहां खाली हो गए 1200 गांव, अब सरकार करने जा रही ये बड़ा काम (फोटो:सोशल मीडिया)

मूलभूत सुविधाओं के अभाव में खाली हो रहे गांव

उतराखंड को करीब से जानने वाले एक्सपर्ट्स के मुताबिक पहाड़ के गांव मूलभूत सुविधाओं के अभाव में खाली हो रहे हैं। यदि इन खाली गांवों के पारम्परिक भवनों को पर्यटन के लिए विकसित किये जाय तो लोगों को अपने ही पैतृक गांवों में ही रोजगार मिलेगा।

जिससे रोजगार के लिए पहाड़ से पलायन कम होगा और पर्यटकों को कुमाऊंनी संस्कृति देखने को मिलेगी। इससे पलायन को रोकने में काफी मदद मिलेगी। अगर जल्द ही कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया तो और भी कई गांव खाली हो जायेंगे।

पलायन की समस्या को दूर करने के लिए  सरकार तेजी से कर रही काम

बताते चलें कि एक मई को उतराखंड में ऐसी खबर सामने आई थी कि यहां पर अब पलायन की समस्या का जल्द इलाज हो सकेगा। इसी कड़ी में पांच महीने के भीतर पलायन आयोग ने एक रिपोर्ट तैयार कर मुख्यमन्त्री को सौंपी गई है। इस रिपोर्ट में ये बताया गया है कि लगभग एक हजार गांव खाली हो गए हैं।

लेकिन कई गांव ऐसे भी हैं जहां लोग वापस आकर रहने लगे हैं। ऐसी भी चर्चा है कि कि सरकार जल्द ही ये रिपोर्ट सार्वजनिक कर सकती है। इस पर विचार –विर्मश चल रहा है।

लव जिहाद पर मचा है शोर, यहां सरकार खुद दूसरे धर्म में शादी करने पर देगी 50 हजार

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App