World

कोरोना का कहर दुनियार में जारी है। चीन के वुहान  से शुरू होकर  अब पूरी दुनिया में फैल चुका है।  जिस समय वुहान में कोरोना तबाही मचा रहा था उस समय इटली ने चीन को व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (PPE) डोनेट किया था,

दुनिया में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 12 लाख 16 हजार से अधिक हो गई है. लेकिन इनमें से 3 लाख से अधिक संक्रमित लोग सिर्फ अमेरिका में हैं। अमेरिका में 8 हजार से अधिक लोगों की मौत भी हो चुकी है।  वहीं न्यूयॉर्क राज्य सबसे अधिक प्रभावित हुआ है।

चीन में तबाही मचाने के बाद कोरोना वायरस अब अमेरिका में तांडव मचा रहा है। यहां पर कोरोना मरीजों की संख्या पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है। अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक चीन में कोरोना वायरस फैलने के कुछ ही दिनों बाद वहां से 4,30,000 लोग अमेरिका पहुंचे थे।

उत्तरी अफ्रीकन देश में ये रोबोट लगातार पेट्रोलिंग करते हैं और अगर कोई भी व्यक्ति पर सड़कों पर घूमता हुआ नजर आता है तो ये रोबोट उनसे सख्ती के साथ पूछताछ करते हैं।

वहीं ब्रिटेन के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार सर पैट्रिक वैलेंस ने पूरी दुनिया को कोरोना से बचने के लिए हर्ड इम्युनिटी (सामूहिक प्रतिरोधक क्षमता) को एकमात्र कारगर हथियार बताया है। उनका कहना है कि हर्ड इम्युनिटी से जानलेवा वायरस को फैलने से रोका जा सकता है।

आईएमएफ (अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष) महामारी को देखते हुए पाकिस्तान को दिये जाने वाले 6 अरब डॉलर के कर्ज की तीसरी किस्त जारी करने में विलम्ब कर सकता है।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने PM मोदी से बातचीत कर कोरोना से लड़ने में मदद करने के लिए कहा है। डोनाल्ड ट्रंप ने भारत से हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन टेबलेट्स मुहैया कराने का अनुरोध किया है।

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने अपने देश के लोगों को चेतावनी देते हुए कहा है कि “कोई इस खुशफहमी में ना रहे कि वह कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित है। न्यूयॉर्क को देखिए जहां सबसे ज्यादा अमीर लोग रहते हैं। अगर वायरस दोबारा उभर जाएगा तो हमें भी नहीं मालूम की क्या हो सकता है।”

कोरोना की वजह से दुनियाभर की आर्थिक व्यवस्था डगमगाई है। अब इस जानलेवा वायरस की वजह से तेल की मांग दुनियाभर में घट गई है और भंडारण इतना बढ़ गया है कि इसके रखने तक की जगह नहीं है।

पूरी दुनिया में कोरोना वायरस ने हाहाकार मचा रखा है। ऐसे में अब विश्व के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका ने भारत से इस वायरस से निपटने में मदद मांगी है।