Top

बच्चों को ज्यादा गिरफ्त में लेता है कोरोना का नया वेरियंट

कोरोना का बी 1.1.7 वेरियंट एकदम अलग किस्म का है जो बच्चों को बहुत आसानी से अपनी गिरफ्त में ले लेता है।

Neel Mani Lal

Neel Mani LalWritten By Neel Mani LalAshiki PatelPublished By Ashiki Patel

Published on 6 April 2021 9:58 AM GMT

Corona Virus
X

फाइल फोटो 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: कोरोना का नया वेरियंट जो यूनाइटेड किंगडम में पाया गया था वह बच्चों को सबसे आसानी से संक्रमित करता है। कोरोना के पहले जितने भी स्ट्रेन मिले वो बच्चों को संक्रमित नहीं करते थे और नतीजतन बच्चों से ये संक्रमण आगे नहीं फ़ैल पाता था। अमेरिका में सेण्टर फॉर इन्फेक्शस डिजीज रिसर्च एंड पालिसी के डायरेक्टर, के डॉ माइकल ओस्टरहोम ने कहा है कि कोरोना का बी 1.1.7 वेरियंट एकदम अलग किस्म का है जो बच्चों को बहुत आसानी से अपनी गिरफ्त में ले लेता है।

अमेरिका के 740 से अधिक स्कूलों में मिला वेरियंट

ये वेरियंट सबसे पहले यूके में मिला था और अब अमेरिका समेत कई मुल्कों में फैला हुआ है। डॉ ओस्टरहोम के मुताबिक अमेरिका के मिनिसोटा प्रान्त में 740 से अधिक स्कूलों में ये वेरियंट पाया जा चुका है। मिशिगन प्रान्त में अस्पतालों में कोरोना के गंभीर लक्षणों वाले युवाओं की भीड़ देखी जा रही है। ये स्थिति पहले नहीं थी।

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल ने दो महीने पहले लिखा था कि इजरायल और इटली से ऐसी साक्ष्य मिल रहे हैं कि कोरोना के नए वेरियंट से बच्चे बड़ी संख्या में संक्रमित हो रहे हैं। डॉ ओस्टरहोम ने पहले राय दी थी कि स्कूल खोल दिए जाने चाहिए क्योंकि बच्चे संक्रमण से महफूज हैं लेकिन अब उन्होंने अपनी राय बदल दी है। अब डॉ ओस्टरहोम कह रहे हैं कि बच्चे संक्रमण फैलने में बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। अब इस मसले पर नए सिरे से देखना होगा।

ऐसा माना जा रहा है कि वैक्सीनेशन से बी1.1.7 वेरियंट से जंग लड़ी जा सकेगी लेकिन डॉ ओस्टरहोम का कहना है कि वैक्सीनेशन पर निर्भर रहने का हमारे पास वक्त नहीं है। उन्होंने कहा है कि इस लहर से पार पाने के लिए वैक्सीन की अभी पर्याप्त खुराकें नहीं हैं अतः हमें दूसरे उपायों पर ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि जिस भी देश में बी1.1.7 की लहर है उन सभी देशों को इस बारे में अन्य उपायों की तरफ देखना होगा।

भारत का हाल

भारत में भी यूनाइटेड किंगडम वाला बी1.1.7 वेरियंट पाया गया है लेकिन पुणे स्थित नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ वाइरोलोजी का कहना है कि ये वेरियंट भारत में पाए गए अन्य वेरिएंट से ज्यादा संक्रामक नहीं है। ये बात प्रयोगशाला में पशुओं पर की गयी एक रिसर्च के आधार पर कही गयी है। इस रिसर्च का विश्लेषण होना अभी बाकी है। भारत में जीनोम सीक्वेंसिंग से पता चला है कि बी1.1.7 वेरियंट के 736 केस मिले हैं। पंजाब में तो कोरोना संक्रमण के जितने नए मामले आये हैं उनमें से 81 फीसदी बी.1.17 वेरिएंट के हैं।

Ashiki

Ashiki

Next Story