ये 14 फैक्ट्स साबित करते हैं चीन में इस्लाम के अस्तित्व पर मंडरा रहा खतरा

Published by Rishi Published: July 16, 2018 | 7:33 pm

नई दिल्ली : भारत में भले ही इस्लाम खतरे में न हो। लेकिन पड़ोसी देश चीन में इस्लाम पर खतरा मंडराने लगा है। आइए जानते हैं कैसे चीन धीरे धीरे इस्लाम को समाप्त करने की चाल चल रहा है।

ये भी देखें : ‘मुस्लिम उम्मीदवार को इस्लामिक स्टेट से जोड़ना सांप्रदायिक मानसिकता’

ये भी देखें :ये क्या कर दिया मालिक : इस्लामिक धार्मिक चैनल ने चला दिया ‘पोर्न फिल्म’

1. सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी ने 16 वर्ष से कम आयु के मुस्लिम बच्चों की धार्मिक गतिविधियों या पढाई पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है।
2. मुस्लिम समुदाय का आरोप है कि उन्हें धर्मग्रंथ रखने और दाढ़ी बढ़ाने की भी छूट नहीं है।
3. मुस्लिम युवकों को फिर से रीएजुकेशन कैंप्स में भेजा जा रहा है।
4. मुसलमानों की निगरानी की जा रही है।
5. मस्जिद में पढ़नेवालों की संख्या सीमित कर दी गई है।
6. नए इमाम के सर्टिफिकेशन की प्रक्रिया भी लगभग रोक दी गई है।
7. रीएजुकेशन कैंप में घंटों कम्युनिस्ट पार्टी का प्रॉपेगैंडा पढ़ने को मजबूर किया जाता है।
8. हर दिन राष्ट्रपति शी चिनफिंग को शुक्रिया कहने वाले और उनकी लंबी उम्र की कामना वाले नारे लगवाए जाते हैं।
9. रीएजुकेशन कैंप में पोर्क खाने तक को विवश किया जाता है जो इस्लाम में हराम है और धार्मिक चरमपंथ को बढ़ावा देने के आरोपियों को शराब तक पिलाई जाती है।
10. मस्जिद संचालकों को राष्ट्रीय झंडा लगाने और नमाज के समय लाउडस्पीकर की आवाज को सीमित करने का फरमान जारी है।
11. लिंग्शिया के पास 355 मस्जिदों से लाउडस्पीकर्स को हटा दिया गया है।
12. मुस्लिम बच्चों को धर्म में विश्वास करने की भी अनुमति नहीं दी जा रही है। केवल कम्युनिजम और पार्टी में भरोसा रखने पर जोर।
13. अभिभावकों कह दिया गया है कि धार्मिक अध्ययन पर बैन उनके बच्चों के हित में है।
14. इंस्पेक्टर्स लगातार मस्जिद की जांच करते रहते हैं जिससे पढ़ने और पढ़ाने वालों की पूरी जानकारी रख सकें।