Top

नवाज़ शरीफ की रिहाई में सऊदी अरब का हाथ नहीं: फवाद चौधरी

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 21 Sep 2018 1:53 PM GMT

नवाज़ शरीफ की रिहाई में सऊदी अरब का हाथ नहीं: फवाद चौधरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इस्लामाबाद: पाकिस्तानी सरकार ने नवाज़ शरीफ की रिहाई के पीछे सऊदी अरब के साथ हुई डील की ख़बरों का शुक्रवार को खंडन किया है। पाकिस्तानी मीडिया में चर्चा थी कि इमरान के सऊदी अरब के दौरें पर नवाज़ शरीफ को छोड़ने के लिए पाकिस्तान और सऊदी अरब के साथ डील हुई थी।

पाकिस्तान के सूचना मंत्री फ़वाद चौधरी ने कहा कि पाकिस्तान का कोई भी नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री अपनी पहली यात्रा खाड़ी देशों की ही करता है। इमरान भी इसी लियें सऊदी अरब गयें थे न कि कोई डील करने।

नवाज नहीं हैं इतने महत्‍वपूर्ण

फ़वाद चौधरी ने कहा कि नवाज़ इतने महत्वपूर्ण व्यक्ति नही है कि मुल्क के बाहर उनके बारे में कोई बात की जायें। उनकी रिहाई कोर्ट ने की है न कि किसी तथाकथ़ित किसी डील के तहत हुई है। पाकिस्तानी सरकार का भ्रष्टाचार के प्रति रूख बिल्कुल साफ है। न तो कोई डील होगी और न ही कोई ढील दी जायेगी।

सरकार ने पहले ही एक्ज़िट कंट्रोल लिस्ट बना रखी है। जिसके कारण कोई भी अपराधी देश छोड़कर नहीं जा सकता है। फिर चाहें पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ हो या उनकी बेटी और दामाद।

देश का पैसा मुल्‍क में रहना जरूरी

फवाद चौधरी ने कहा है कि नवाज़ जेल में रहे या जेल के बाहर, जरूरी ये है कि देश का पैसा मुल्क में रहना चाहिए। गौरतलब है कि नवाज़, उनकी बेटी और दामाद की सजा को कोर्ट ने निलंबित कर दिया है, जिसके कारण उनकी और उनके परिवार की रिहाई हुई है। पनामा पेपर्स में नाम आने के कारण नवाज़ शरीफ को प्रधानमंत्री पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था। उनके और उनके परिवार पर आरोप था कि उन्होंने लंदन में महंगे फ्लैट ख़रीदे है। कोर्ट ने शरीफ को 10 साल,बेटी मरियम को 7 साल और दमाद सफ़दर को 1 साल की सज़ा सुनाई थी।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story