World

कोरोना का कहर दुनिया भर में जारी है। दुनिया के शक्तिशाली देश भी इसके खिलाफ जद्दोजहद कर रहे हैं। इस महामारी ने दुनिया में सबसे विकसित देशों की भी पोल खोल कर रख दी है...

ताजा खबर आ रही है कि ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं। जीं हां उनकी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। क्लेरेंस हाउस ने बुधवार को घोषणा की है कि प्रिंस चार्ल्स का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया है मगर उनका स्वास्थ्य ठीक है।

संयुक्त राष्ट्र संघ ने कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में मोदी सरकार की पहल की तारीफ करते हुए उसके प्रति समर्थन जताया है।संयुक्त राष्ट्र संघ के अलावा विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी मोदी सरकार के 21 दिन के लॉकडाउन के एलान का स्वागत किया है।

वकील ने चीन से 20 लाख करोड़ डॉलर के मुआवजे की मांग की है। वाशिंगटन के वकील लैरी क्लैमन से जुड़ी ‘फ्रीडम वाच एंड बज फोटोज’ संस्था ने टेक्सास स्थित अमेरिकी जिला कोर्ट में यह मामला दाखिल किया है।

टेक्सास के उत्तरी डिस्ट्रिक्ट की एक अदालत में मुकदमा दायर करते हुए आरोप लगाया कि वायरस को चीन ने युद्ध के जैविक हथियार के रूप में बनाया और अमेरिकी नागरिकों को मारने और बीमार करने की साजिश रची। और अब चीन इसे आगे बढ़ाते हुए अमेरिकी कानून, अंतरराष्ट्रीय कानून, समझौतों और मानदंडों का उल्लंघन कर रहा है।

इस पूरे मामले अमेरिका की शीर्ष स्वास्थ्य एजेंसी बड़ी लापरवाही सामने आ रही है। जिसने जंगल की आग की तरह महामारी को पूरे अमेरिका में फैलने दिया। अमेरिका में अब तक करीब 44 हजार लोग संक्रमित पाए गए हैं और 560 की मौत हो चुकी है। एक दिन में दस हजार से अधिक नए मामले पता चले हैं।

अफगानिस्तान की राजधानी के पुराने शहर के बीचों बीच स्थित गुरुद्वारे में घुसकर बुधवार को एक बंदूकधारी ने हमला किया जिसमें कम से कम चार लोगों की मौत हो गई। एक सिख सांसद ने यह जानकारी दी।

अमेरिका में कोरोना वायरस के एक ही दिन में 10,000 से अधिक मामलों की पुष्टि हुई है जिससे जिससे देश में ऐसे मामलों की संख्या बढ़कर 43,734 हो गई हैं। उधर, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने महत्वपूर्ण चिकित्सा सामान की आपूर्ति और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों की जमाखोरी रोकने के लिए एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर कर दिए हैं।

कोरोना के कहर को देखते हुए लगभग पूरे विश्व में  लाक डाउन है और इसके कारण  करीब 2.6 अरब लोग लॉकडाउन के कारण अपने घरों में बंद रहने को मजबूर हैं, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग के जरिए कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

कोरोना महामारी फैलने के साथ ही दुनियाभर से ऐसी भी खबरें आने लगी थीं कि लोग घरेलू इस्तेमाल की चीजों का स्टॉक भर रहे हैं। अब रूस से एक चौंकाने वाली खबर आई है