World

एक ओर दुनिया कोरोना वायरस जैसी जानलेवा महामारी से निपट रही है तो वहीं अब भूकंप (Earthquake) के तेज झटकों से लोग दहल गए। मामला रूस का है, जहां बुधवार को अचानक धरती कम्पन करने लगी। बताया जा रहा है कि भूकंप के झटके इतनी तेज थे कि लोगों में अफ्तरातफरी मच गयी। हालाँकि अभी तक किसी तरह के नुकसान की कोई जानकारी नहीं मिली है।

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में तबाही मचाई हुई है। सारे देश अपने तरीके से इससे लड़ने के लिए जुटे हुए हैं। इस शक्तिशाली देश की भी हालत खस्ता हो रही है लेकिन राष्ट्रपति ने देश मेंं बंदी करने से मना किया है। आखिर क्यों मना किया, पढ़िए-

कोरोना के सामने बड़े-बड़े देश ने भी हाथ खड़े कर दिए हैं। लेकिन दुनिया का एक ऐसा भी देश है जिसने इस वायरस के फैलाव पर पूरी तरह से रोक लगा लिया है। जबकि चीन के बाद इसी देश में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले आये थे....

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए भारत लगातार आक्रामक होकर काम करे। WHO के इमरजेंसी हेल्थ प्रोग्राम के एग्जेक्यूटिव डायरेक्टर माइक रेयान ने स्विटजरलैंड के जेनेवा में 23 मार्च को प्रेस कांफ्रेंस में भारत को लेकर सीधे बात की। इससे पहले रेयान ने दुनिया भर में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण पर कहा था

कोरोना वायरस की मार से जूझ रहे चीन के युन्नान प्रांत में एक व्‍यक्ति की सोमवार को हंता वायरस से मौत हो गई। सोशल मीडिया पर मचा कोहराम

चीन के हुबेई प्रांत और खासकर वुहान शहर में कोरोना ने बहुत कहर बरपाया है। 24 मार्च को सरकार की घोषणा में कहा गया है कि 24 मार्च की आधी रात से हुबेई प्रांत में वाहनों की आवाजाही पर लगा कंट्रोल हटा लिया गया है।

कोरोना वायरस से बचने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सलाह मानना एक शख्स के लिए भारी पड़ गया। कोरोना वायरस से बचने के चक्कर में उसकी जान चली गई।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस भयावह स्थिति की तस्वीर पेश करते हुये कहा है कि महामारी की रफ्तार बढ़ रही है लेकिन अब भी इस तेजी को कंट्रोल करना मुमकिन है।

पूरा देश इस समय कोरोना की मार झेल रहा है। अमेरिका स्थित फार्मास्युटिकल कंपनी मॉडर्ना Covid-19 के टीके की टेस्टिंग पर पिछले कुछ अर्से से काम कर ही है।

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते दुनियाभर के टूर्नामेंट रद हो गए हैं। ऐसे में हर तरफ ओलंपिक खेलों के आयोजन की निंदा हो रही थी। ये 24 जुलाई से शुरू होने वाले थे और आईओसी की ओर से अभी तक कोई बयान नहीं आया था...