महफूज रहेंगे राज कपूर-दिलीप कुमार के पैतृक घर, सरकार ने लिया बड़ा फैसला

राज कपूर और दिलीप कुमार के पैतृक घरों को पहले ही राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया जा चुका है और अब खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के पुरातत्व विभाग ने इन दोनों इमारतों की खरीदारी के लिए पर्याप्त कोष उपलब्ध कराने का फैसला किया है।

Pakistan provincial government to buy dilip kumar raj kapoor ancestral homes

कपूर-दिलीप कुमार के पैतृक घर, (photo Social media)

अंशुमान तिवारी

पेशावर। बॉलीवुड की दुनिया के दो महानायक राज कपूर और दिलीप कुमार के पैतृक घर महफूज रहेंगे। पाकिस्तान के पेशावर शहर में स्थित दोनों मशहूर अभिनेताओं के पैतृक घर अब काफी जर्जर हालत में है मगर खैबर पख्तूनख्वा की प्रांतीय सरकार ने इन घरों को खरीदने का फैसला किया है।

राज कपूर और दिलीप कुमार के पैतृक घरों को पहले ही राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया जा चुका है और अब खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के पुरातत्व विभाग ने इन दोनों इमारतों की खरीदारी के लिए पर्याप्त कोष उपलब्ध कराने का फैसला किया है।

इस कारण नहीं टूट सकीं दोनों इमारतें

पुरातत्व विभाग के प्रमुख डॉ. अब्दुस समद खान का कहना है कि इन दोनों का ऐतिहासिक इमारतों के मालिकों ने कई बार इसे तोड़ने की कोशिश की। दरअसल इन इमारतों के मालिक इन्हें तोड़कर कॉमर्शियल प्लाजा बनाकर ज्यादा कमाई करने की कोशिश में जुटे हुए थे मगर सरकार की ओर से उन्हें यह कदम नहीं उठाने दिया गया।

Pakistan provincial government to buy dilip kumar raj kapoor ancestral homes

डॉ.खान ने कहा कि इन इमारतों का ऐतिहासिक महत्व होने के कारण पुरातत्व विभाग इन्हें संरक्षित करना चाहता था।

कपूर हवेली के मालिक का दावा

हालांकि राज कपूर की हवेली के मालिक अली कादर का कहना है कि वह इमारत को ध्वस्त करना नहीं चाहते थे। अली का दावा है कि इस ऐतिहासिक इमारत की रक्षा व संरक्षण के लिए उन्होंने खुद कई बार पुरातत्व विभाग के अफसरों से संपर्क किया है।

ये भी पढ़ेंः जम्मू कश्मीर पर बड़ी खबर: लागू हुआ ये नया कानून, राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

उनका कहना है कि वे खुद इस इमारत को राष्ट्रीय गौरव मानते हैं। सूत्रों का कहना है कि इमारत के मालिक की ओर से इसे सरकार को बेचने के लिए 200 करोड़ रुपए की कीमत तय की गई है। देखने वाली बात यह होगी कि सौदा कितने में तय होता है।

राज कपूर के दादा ने बनवाई थी हवेली

पेशावर शहर में राज कपूर के पैतृक घर को कपूर हवेली के नाम से जाना जाता है। यह हवेली पेशावर के किस्सा ख्वानी बाजार में स्थित है। जानकारों का कहना है कि 1918 से 1922 के बीच इस हवेली का निर्माण किया गया था और इसे राज कपूर के दादा दीवान बशेश्वरनाथ कपूर ने बनवाया था।

Pakistan provincial government to buy dilip kumar raj kapoor ancestral homes

सौ साल पुराना है दिलीप कुमार का घर

बॉलीवुड की दुनिया में अपने जोरदार अभिनय से सबका दिल जीतने वाले दिलीप कुमार का पैतृक घर भी इसी इलाके में स्थित है। यह घर भी करीब 100 साल पुराना है और अब काफी जर्जर हालत में पहुंच गया है। 2014 में तत्कालीन नवाज शरीफ की सरकार ने इसे राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया था।

ये भी पढ़ेंः पीने के पानी में मिला दिमाग को खाने वाला अमीबा, 1 की मौत, 8 शहरों में अलर्ट

पुरातत्व विभाग उपलब्ध कराएगा पैसा

डॉ.खान का कहना है कि इन दोनों इमारतों को खरीदने के लिए पुरातत्व विभाग की ओर से पर्याप्त पैसा उपलब्ध कराने का फैसला किया गया है। उन्होंने कहा कि दोनों ऐतिहासिक इमारतों की कीमत तय करने की कोशिश की जा रही है। इसके लिए पेशावर के उपायुक्त को एक आधिकारिक पत्र भेजा गया है।

Pakistan provincial government to buy dilip kumar raj kapoor ancestral homes

उनसे कहा गया है कि वे स्थानीय स्तर पर पता लगाकर इमारतों की कीमत तय करें। डॉ.खान ने कहा कि भारतीय सिनेमा के दो महानायक इन इमारतों में पैदा हुए और उनका बचपन यहीं बीता था। यही कारण है कि इन्हें राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया गया है।

कपूर खानदान को हवेली से प्यार

कपूर खानदान अब पूरी तरह मुंबई में बस चुका है। हालांकि परिवार के कुछ सदस्यों ने कुछ वर्ष पूर्व पेशावर का दौरा करके इस हवेली को देखा था। कपूर खानदान के सदस्यों को आज भी इस हवेली से प्यार है। दूसरी ओर दिलीप कुमार काफी दिनों से अस्वस्थ चल रहा है। काफी उम्रदराज होने और अस्वस्थता के कारण काफी दिनों से उनका मुंबई से बाहर जाना संभव नहीं हो सका है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App