लोकसभा चुनाव : स्वास्थ्य सेवाओं में निजीकरण ठीक नहीं: राहुल गांधी

छत्तीसगढ़ के रायपुर में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने स्वास्थ्य पेशेवरों से संवाद के दौरान कहा, मैं स्वास्थ्य सेवाओं में निजीकरण का विरोध करता हूं। उन्होंने कहा, मैं आप लोगों से सुनकर, समझकर समाधान निकालना चाहता हूं। चिकित्सा सुविधाओं, प्रणालियों, बीमा के बारे में लोग जो सुझाव देंगे उन सुझावों को लेकर हम काम करेंगे।

रायपुर : छत्तीसगढ़ के रायपुर में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने स्वास्थ्य पेशेवरों से संवाद के दौरान कहा, मैं स्वास्थ्य सेवाओं में निजीकरण का विरोध करता हूं। उन्होंने कहा, मैं आप लोगों से सुनकर, समझकर समाधान निकालना चाहता हूं। चिकित्सा सुविधाओं, प्रणालियों, बीमा के बारे में लोग जो सुझाव देंगे उन सुझावों को लेकर हम काम करेंगे।

ये भी देखें :भारत को जीएसपी से बाहर करने के पीछे क्या है डोनाल्ड ट्रंप की मंशा?

क्या बोले राहुल 

मैं अपने नेताओं से कहता हूं की वो ज्यादा से ज्यादा जनता के प्रति संवेदनशील बनें। आदिवासियों के प्रति ज्यादा संवेदनशील बनें : राहुल

आयुष्मान भारत केवल एक सीमित संख्या में स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों को लक्षित करने वाली योजना है। यह भारत के सबसे अमीर व्यवसायियों में से एक है : राहुल

आप इंश्योरेंस दे रहे हो, लेकिन अस्पतालों में बुनियादी सुविधाएं नहीं हैं। मुझे लगता है कि पूरा नेटवर्क हर राज्य में बनाना होगा : राहुल

हमने शिक्षा और सूचना का अधिकार दिया है आौर अब स्वास्थ्य का अधिकार देने जा रहे हैं : राहुल

छत्तीसगढ़ में एक बड़ी पहल की जा रही है। यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम ऐसा कार्यक्रम है, जिसकी चर्चा पूरी दुनिया में की जा ही है : राहुल

ये भी देखें :कांग्रेस ने नाना को दिया टिकट, गडकरी बोले- मैं राजनीति में कभी दुश्मनी नहीं रखता

क्या बोले पुनिया 

यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम को फिलहाल परखा जा रहा है। दुनिया के अलग-अलग देशों ने इस योजना की चर्चा हो रही है। दुनिया के कई देशों ने इस योजना को अपने-अपने स्तर पर आगे बढ़ाया है : प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया

चिंता का विषय यह है कि देश की करीब 61 प्रतिशत आबादी में गंभीर बीमारी होने पर लोग कर्ज लेकर उपचार कराने विवश हो जाते हैं : प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया