चुनावी नतीजों को लेकर पवार की भविष्यवाणी, BJP होगी सबसे बड़ी पार्टी मगर मोदी नहीं बनेंगे PM

लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद अब हर किसी की दिलचस्पी इस बात को जानने में हैं कि केन्द्र में अगली सरकार किसकी बनेगी और कौन देश का पीएम बनेगा। ऐसे में देश की राजनीति और चुनावों के माहिर खिलाड़ी माने जाने वाले एनसीपी मुखिया शरद पवार ने चुनावों को लेकर महत्वपूर्ण भविष्यवाणी है।

चुनावी नतीजों को लेकर पवार की भविष्यवाणी, BJP होगी सबसे बड़ी पार्टी मगर मोदी नहीं बनेंगे PM

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद अब हर किसी की दिलचस्पी इस बात को जानने में हैं कि केन्द्र में अगली सरकार किसकी बनेगी और कौन देश का पीएम बनेगा। ऐसे में देश की राजनीति और चुनावों के माहिर खिलाड़ी माने जाने वाले एनसीपी मुखिया शरद पवार ने चुनावों को लेकर महत्वपूर्ण भविष्यवाणी है। 14 चुनाव लड़ चुके और राजनीति पर मजबूत पकड़ रखने वाले पवार ने भविष्यवाणी की है कि नतीजों के बाद बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी हो सकती है, लेकिन मोदी दोबारा पीएम नहीं बनेंगे। पवार ने कहा कि मैं जितना राजनीति को समझता हूं, उसे देखकर मुझे नहीं लगता कि मोदी दोबारा पीएम बनेंगे। मैं कोई ज्योतिषी नहीं हूं, लेकिन मुझे पूरी तरह यकीन है कि बीजेपी को उतनी सीटें नहीं मिलेंगी जितनी उसकी जरूरत है।

यह भी पढ़ें…..लोकसभा चुनाव 2019: जानें 543 सीटों के सांसदों की संख्या और दलों के नाम

बीजेपी को नहीं मिलेगा बहुमत
पवार ने कहा कि देश के लोगों के मूड को देखकर मुझे लगता है कि बीजेपी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलेगा। बीजेपी को बहुमत से कम सीट मिलेंगी। वैसे वो सबसे बड़ी पार्टी हो सकती है। सबसे बड़ी पार्टी बनने के बाद भी बहुमत न होने से बीजेपी मनचाहा पीएम नहीं बना पाएगी। उसे दूसरी पार्टियों की मदद लेनी होगी और अगर ये हुआ तो उन्हें नया पीएम को ढूंढना होगा।

यह भी पढ़ें…..लोकसभा चुनाव : बेंगलुरु उत्तर सीट के बारे में वो सब जो आप जानना चाहते हैं

चुनाव नहीं लड़ेंगे पवार
एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने हाल में आगामी लोकसभा चुनाव न लडऩे का ऐलान किया है। पिछले काफी समय से पवार के माढा लोकसभा सीट से चुनाव लडऩे की अटकलें थी, हालांकि एनसीपी प्रमुख ने इन अटकलों को विराम दे दिया। चुनाव लडऩे की संभावनाओं को विराम देते हुए पवार ने कहा कि मैंने सोचा कि मेरे परिवार से दो सदस्य 2019 लोकसभा चुनाव पहले ही लड़ रहे हैं। मैं 14 बार चुनाव लड़ चुका हूं। यही कारण है कि मैंने चुनाव न लडऩे का फैसला किया।