जेटली का राहुल पर पलटवार, कहा- नेहरू ने UNSC सीट के लिए लिया था चीन का पक्ष

पाकिस्तानी आतंकी मसूद अजहर को चीन ने एक बार फिर वैश्विक आतंकी घोषित होने में अड़ंगा लगा दिया। इसके बाद देश की सियासत गरमा गई है। कांग्रेस और बीजेपी में वार शुरू हो गया है। अब वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस पर हमला बोला है।

नई दिल्ली: पाकिस्तानी आतंकी मसूद अजहर को चीन ने एक बार फिर वैश्विक आतंकी घोषित होने में अड़ंगा लगा दिया। इसके बाद देश की सियासत गरमा गई है। कांग्रेस और बीजेपी में वार शुरू हो गया है। अब वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि जवाहरलाल नेहरू मूल रूप से दोषी हैं, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के लिए भारत की बजाय चीन का पक्ष लिया था।

यह भी पढ़ें…..क्रिकेटर मोहम्मद शमी की मुश्किलें बढ़ीं, पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट, ये है मामला

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के मामले में चीन के वीटो के मुद्दे पर पीएम मोदी पर निशाना साधा था। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कमजोर बताते हुए चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से डरने और चीन के सामने घुटने टेकने का आरोप लगाया।

यह भी पढ़ें…..चुनाव लड़ने की चर्चा पर बोले अक्षय, बताया अपना प्लान

गौरतलब है कि जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के भारत के प्रयास में चीन ने वीटो लगाकर एक बार फिर अड़ंगा लगा दिया है।

जेटली ने राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए 2 अगस्त 1955 को नेहरू द्वारा मुख्यमंत्रियों को लिखे पत्र का हवाला देते हुए कहा, ‘कश्मीर और चीन, दोनों पर मूल गलती एक ही व्यक्ति द्वारा की गई।

जेटली ने लिखा कि चीन और कश्मीर दोनों पर एक ही व्यक्ति ने गलती की है। 2 अगस्त, 1955 को नेहरू ने मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा था जिसमें कहा गया था कि अनौपचारिक रूप से अमेरिका द्वारा सुझाव दिया गया है कि चीन को संयुक्त राष्ट्र में लिया जाना चाहिए लेकिन सुरक्षा परिषद में नहीं। इसके साथ अमेरिका चाहता था कि भारत को सुरक्षा में उसकी जगह लेनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि इस पत्र के अनुसार, हम निश्चित रूप से अमेरिका की पेशकश स्वीकार नहीं कर सकते क्योंकि इसका मतलब है कि चीन के साथ अन्याय करना और यह चीन जैसे महान देश के साथ अनुचित होगा कि वो सुरक्षा परिषद में न हो।

यह भी पढ़ें…..5 वर्षीय मासूम बहन के साथ गया था स्कूल, दर्दनाक हादसे में मौत