alliance

लोकसभा चुनाव की तैयारियों में आज का दिन काफी गहमा गहमी भरा है। गठबंधन, दल - बदल, नेताओं की मेल मुलाकात ने चुनाव का पारा चढ़ा दिया।अपना दल (कृष्णा पटेल गुट) का कांग्रेस के साथ गठबंधन हो गया है। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए कृष्णा पटेल की पार्टी दो सीटों पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी।

असम में आगामी लोकसभा में कांग्रेस को हराने के लिए भरातीय जनता पार्टी और असम गण परिषद पार्टी मिलकर चुनाव लड़ेंगी। बीजेपी अपने पुराने साथी असम गण परिषद को एक बार फिर साथ लाने में कामयाब रही।

पूर्व सीएम और झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के आवास पर लगभग सवा घंटे चली मीटिंग के बाद एनडीए के खिलाफ दस इलाकाई पार्टियों ने महागठबंधन का ऐलान किया। यह भी तय हुआ कि लोकसभा चुनाव में इस महागठबंधन का नेतृत्व कांग्रेस करेगी और विधानसभा चुनाव हेमंत सोरेन के नेतृत्व में लड़ा जाएगा।

कभी धुर राजनीतिक विरोधी रहे सपा और बसपा का करीब आना राजनीति का चमत्कार ही कहा जाएगा, इस चमत्कार का श्रेय पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जाता है। ममता इन दिनों तीसरे फ्रंट की कोशिश में तेजी से लगी हुई हैं। गैर कांग्रेस सपा और बसपा का गठबंधन की इसी कोशिश का बेजोड़ नमूना है।

आज उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा के गठबंधन के बाद देश के राजनीतिक गलियारे में हलचल मच गई है। दो दशक से एक दूसरे के धुर विरोधी रही सपा और बसपा ने आज यानी शनिवार को गठबंधन का ऐलान कर दिया।

सपा बसपा गठबंधन पर पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कहा अगर वो दोनों साथ हुए हैं तो आशा रखते हैं कि प्रदेश के हितों के लिए काम करेंगे।हार्दिक आज वाराणसी में किसानों के बीच पहुंचे थे। पटेल ने कहा, संविधान को बचाना है तो सबको एक होना पड़ेगा। देश में गलत ताकतें राज करती हैं।

आज मायावती और अखिलेश यादव ने साझा प्रेस कांफ्रेंस कर 2019 लोकसभा के गठबंधन के लिए सीटों का खुलासा कर दिया।सपा 38 और बसपा 38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।2 सीटों को अभी रिक्त रखा गया गया है। और रायबरेली अमेठी सीट पर गठबंधन अपना प्रत्याशी नहीं उतारेगी।

2019 के लोकसभा चुनावों के लिए सभी पार्टियां जोर-शोर से तैयारियों में लगी हुई हैं। जहां एनडीए में सीटों का बंटवारा हो गया है वहीं महागठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर काफी चर्चा हो रही है।

लखनऊ: आगामी लोकसभा चुनाव के पहले ही महागठबंधन की नींवे हिलती दिख रही है। बसपा सुप्रीमो मायावती पहले ही छत्तीसगढ और मध्यप्रदेश के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के साथ गठबंधन को नकार चुकी हैं। हालांकि इसके तुरंत बाद कांग्रेस के शीर्षस्थ नेता हरकत में आए। उधर शिवपाल यादव के सेकुलर मोर्चा के गठन के बाद प्रदेश …

लखनऊ: साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में अब महज कुछ ही महीने शेष रह गए हैं। ऐसे में बीजेपी के साथ विपक्षी दल भी तैयारियों में जुट गए हैं। वहीं, कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दलों ने एक रणनीति तैयार कर ली है। यह भी पढ़ें: UP में विपक्षी गठबंधन का खाका तैयार, SP- BSP, …