world news

सेना के पूर्व प्रमुख अपने इलाज के लिए दुबई गए थे, और तब से वह सुरक्षा एवं स्वास्थ्य कारणों से वापस नहीं लौटे और अचानक तवियत बिगड़ने कि वजह से शनिवार कि रात को आपात स्थिति में अस्पताल लाया गया । ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एपीएमएल) के महासचिव मेहरेने आदम मलिक ने रविवार को यह जानकारी दी ।

संयुक्त राष्ट्र में जैश ए मोहम्मद चीफ मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने वाले प्रस्ताव पर चीन द्वारा वीटो लगाने के बाद फ्रांस ने मसूद की संपत्ति को जब्त करने का फैसला किया है। जैश के खिलाफ फ्रांस की अबतक की यह सबसे बड़ी कार्रवाई मानी जा रही है।

जी हां Avenger Endgame का ट्रेलर रिलीज हो गया है। ट्रेलर के साथ ही मार्वल ने फिल्म का ऑफिशियल पोस्टर भी शेयर किया।. ट्रेलर में दिखाया गया है कि ऐवेंजर्स आखिरी सांस तक लड़ने की ठान चुके हैं।

उस समय बांग्लादेशी क्रिकेटर मस्जिद में नमाज पढ़ रहे थे  जैसे ही यह घटना हुई वैसे ही वहां के सुरक्षा बलों ने उन्हें सुरक्षित तरीके से बाहर  निकाल  कर एक सेफ जगह पहुंचा दिया।

वैज्ञानिकों ने कहा कि इन छोटे जीवों को स्लिंगशॉट मकड़ी कहा जाता है, जो सबसे तेज चलने वाला जंतु हैं, वैज्ञानिकों ने अमेरिकन फिजिकल सोसाइटी की एक बैठक में यह सूचना दी।

बता दें कि नाइजीरिया में खराब निर्माण सामग्री के चलते अक्सर इमारत ढहने की घटना सामने आती रहती है। 2016 में, दक्षिणपूर्वी नाइजीरिया में एक चर्च के नीचे आने से 100 से अधिक लोग मारे गए थे।

भारत और पाकिस्तान के बीच करतारपुर कॉरिडोर को लेकर बैठक होगी। इस बैठक के लिए दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडल अटारी-वाघा बॉर्डर पहुंच चुके हैं। आपको बता दें, कॉरिडोर पाकिस्तानी शहर करतारपुर में स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब को भारत के गुरदासपुर जिले से जोड़ेगा।

राष्ट्रपति इवान डुक्वे ने मृतकों को ट्विटर के जरिए श्रद्धांजलि दी और कहा, ‘मेरी संवेदनाएं परिवारों के साथ हैं।’ निदेशक कर्नल जोर्ज मार्टिनेज ने कहा कि हादसा संभवत: इंजन खराब होने के कारण हुआ।

गौरतलब है कि जुआन, राष्ट्रपति निकोलस को सत्ता से बेदखल करने की कोशिशों में जुटे हैं और स्वयं को अंतरिम राष्ट्रपति घोषित कर चुके हैं। गुएदो जुआन को अमेरिका समेत 50 देशों का समर्थन प्राप्त है। और कई पश्चिमी देश मादुरो पर सत्ता छोड़ने के लिए दबाव बना रहे हैं।

पुलवामा हमले के बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने जैश-ए-मोहम्मद का नाम लेते हुए इस आतंकी संगठन की निंदा की थी। जैश का सीधे तौर पर नाम लिए जाने के बाद चीन पर काफ़ी दबाव पड़ा था कि वो भी मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय चरमपंथी माने। ऐसा इसलिए है क्योंकि चीन सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य है और आतंक के खिलाफ वो दोहरा रुख नहीं अपना सकता।