Education

अब वह दिन ज्यादा दूर नहीं है जब हिमालय क्षेत्र की विषम परिस्थितियों के बारे में सूचना और संकेत जल्द मिल जाएंगे।ऐसा इसलिए संभव हो पायेगा क्यों कि आईआईटी मंडी में जियोलॉजी एवं जियो मॉर्फोलॉजी विषय की पढ़ायी शुरू की जा रही है।यह दोनों कोर्स एमएस, एमटेक और पीएचडी स्तर पर होंगे।

सोलर पैनल सूर्य की ऊर्जा को संचित कर बैटरी चार्ज करता रहता है। यही ऊर्जा समय पड़ने पर बल्ब को रोशन करती है। गत वर्ष अगस्त माह में यह परियोजना शुरू की गई थी। चंदनकियारी में जल्द एक सेंटर खोला जाएगा।

ऐसे बच्चों को तलाशने में जुट गई जो इस बीमारी से पीडित था। आज वह सड़क पर रहने वाली मानसिक मंदित महिलाओं को कानूनी तौर पर अपने शेल्टर में लाती हैं। और उनमें सुधार करने का प्रयास करती हैं।

इसी कड़ी में हम आपको आगे एक ऐसे कक्षा नौ के छात्र देवांश शर्मा के बारे में बता र​​हे ​​हैं जो कि अपने पिता की समस्या देखकर कुछ नया बनाने के लिए ठान लिया और उसके सोच और लगन रंग लाई और 'वैल्युएबल डीजल' बनाया|

आप अपनी ग्रेजुएशन डिग्री में फिलॉसफी सब्जेक्ट चुन सकते हैं। आप इसमें मास्टर्स की पढ़ाई भी कर सकते हैं। आप एमफिल और पीएचडी जैसी डिग्री भी हासिल कर सकते हैं।

लखनऊ:  देश के कई सरकारी संस्थानों में वैकेंसी निकली है। उम्मीदवार इन संस्थानों की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

जेएनयू में इस बार पिछले साल से हटकर दिसंबर की बजाय मई में कंप्यूटर बेस्ड ऑनलाइन एंट्रेंस होगा। 3383 सीटों के लिए ऐडमिशन होंगे। इनमें 1043 सीटें एमफिल और पीएचडी प्रोग्राम की हैं। 127 शहरों में एंट्रेंस एग्जाम होंगे, जो कि पिछले सालों से ढाई गुना अधिक है।

चयन प्रक्रिया: योग्य उम्मीदवारों का चयन दसवीं और आईटीआई में प्राप्तांकों के आधार पर तैयार मेरिट सूची के अनुसार किया जाएगा।

इसके तहत भवन निर्माण विभाग में 31 और जल संसाधन विभाग में 83 पदों पर नियुक्तियां की जाएंगी। कुल पदों में 35 फीसदी पद महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। साथ ही आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के लिए भी 10 फीसदी आरक्षण होगा।

इच्छुक व योग्य उम्मीदवार दो अप्रैल 2019 तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इन पदों के लिए तीन वर्ष की प्रोबेशन अवधि होंगी।