Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

RJD के पूर्व नेता की हत्या का मामला गरमाया, CM को चिट्ठी लिख तेजस्वी ने की ये मांग

राजद के एससी-एसटी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश सचिव शक्ति सिंह मल्लिक की गत 4 अक्टूबर को हत्या कर दी गई थी। तीन नकाबपोश बदमाशों ने मुर्गी फार्म रोड स्थित उनके घर में घुसकर उन्हें गोलियों से भून डाला था।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 7 Oct 2020 5:12 PM GMT

RJD के पूर्व नेता की हत्या का मामला गरमाया, CM को चिट्ठी लिख तेजस्वी ने की ये मांग
X
शक्ति सिंह मल्लिक की गत 4 अक्टूबर को हत्या कर दी गई थी। तीन नकाबपोश बदमाशों ने मुर्गी फार्म रोड स्थित उनके घर में घुसकर उन्हें गोलियों से भून डाला था।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अंशुमान तिवारी

पटना: बिहार में इन दिनों राजद के एक पूर्व नेता की हत्या को लेकर सियासत गरमाई हुई है। इसका कारण यह है कि पूर्णिया जिले में राजद के पूर्व नेता शक्ति सिंह मल्लिक की हत्या के मामले में राजद के सीएम पद के चेहरे और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव को भी नामजद किया गया है। अब इस मामले में नया मोड़ आ गया है क्योंकि राजद नेता तेजस्वी यादव ने इस मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है। उन्होंने इस बाबत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को चिट्ठी लिखी है और मांग की है कि इस मामले में दूध का दूध और पानी का पानी होना चाहिए।

बदमाशों ने घर में घुसकर भून डाला

राजद के एससी-एसटी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश सचिव शक्ति सिंह मल्लिक की गत 4 अक्टूबर को हत्या कर दी गई थी। तीन नकाबपोश बदमाशों ने मुर्गी फार्म रोड स्थित उनके घर में घुसकर उन्हें गोलियों से भून डाला था। घायल अवस्था में घर वाले उन्हें लेकर अस्पताल गए थे मगर कुछ ही देर में उन्होंने दम तोड़ दिया था।

हत्या में तेजस्वी और तेजप्रताप भी नामजद

बाद में हत्या के मामले को लेकर सियासत गरमा गई क्योंकि मृतक के पिता और पत्नी ने राजद नेता और पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर आरोप लगाना शुरू कर दिया। ‌मृतक के पिता और पत्नी ने इस मामले में तेजस्वी यादव, उनके बड़े भाई और पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव, कालू पासवान, अनिल साह और सुनीता देवी के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है।

Tejashwi Yadav Letter

यह भी पढ़ें...बिहार चुनाव: कांग्रेस ने 21 सीटों पर उतारे प्रत्‍याशी, यहां देखें पूरी लिस्ट

टिकट के लिए पचास लाख मांगने का आरोप

परिजनों ने आरोप लगाया है कि शक्ति रानीगंज विधानसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहते थे और इसके लिए राजद से टिकट मांग रहे थे। टिकट के बदले राजद की ओर से पचास लाख रुपए की मांग की गई और बाद में उन्हें पार्टी से निकाल भी दिया गया।

परिजनों के मुताबिक टिकट न मिलने पर शक्ति निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव मैदान में उतरना चाहते थे। इसीलिए उनकी हत्या करा दी गई।

बाद में सोशल मीडिया पर शक्ति का एक वीडियो भी खूब वायरल हुआ जिसमें शक्ति राजद नेता तेजस्वी यादव पर टिकट के बदले पचास लाख मांगने का आरोप लगाते दिख रहे हैं। इस वीडियो में उन्होंने यह भी कहा है कि पैसे न देने पर उन्हें धमकियां दी जा रही हैं।

यह भी पढ़ें...बिहार चुनाव में कितना असरदार होगा लोजपा फैक्टर, किसे नुकसान पहुंचाएंगे चिराग

तेजस्वी ने की सीबीआई जांच की मांग

अब इस बाबत तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर मांग की है कि दलित नेता की हत्या के मामले में सीबीआई जांच की अनुशंसा की जाए।

उन्होंने कहा कि चुनावी व्यस्तता के कारण उन्हें थोड़ी देर से मामले की जानकारी हासिल हुई। इस मामले में मुझे और मेरे बड़े भाई को नामजद किया गया है।

Nitish Kumar

यह भी पढ़ें...मणिपुर-नागालैंड के पूर्व राज्यपाल अश्विनी कुमार ने की आत्महत्या, ये है बड़ी वजह

मेरे खिलाफ लग रहे आधारहीन आरोप

अब इस मामले में जदयू के नेताओं की ओर से ओछे और आधारहीन आरोप लगाए जा रहे हैं। ऐसे में मेरा मानना है कि कानून इस मामले में अपना काम करे और सही दिशा में पूरे मामले की जांच की जाए।

तेजस्वी ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश के ही लोग बिहार पुलिस की साख और काबिलियत पर सवाल उठा चुके हैं। ऐसे में मामले की सीबीआई से जांच कराई जानी चाहिए ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो सके।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story