Sports

उन्होंने कहा कि अपने बारे में खुद फैसला करना हैं कि उन्हें भविष्य में क्या करना है। मैं भी टीम से बाहर होने के बाद वापस आया था। चैम्पियन इतना जल्दी नहीं छोड़ते हैं। मुझे नहीं मालूम कि उनके दिमाग में अभी क्या चल रहा है।

बीसीसीआई के नए अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने पदभार संभालने के बाद बुधवार को पहली बार प्रेस कांफ्रेंस की। इस दौरान पत्रकारों ने सौरभ गांगुली से महेंद्र सिंह धोनी के रिटायरमेंट और टीम में रोल पर सवाल पूछे।

इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने आज मुंबई में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के नए अध्यक्ष के रूप में चार्ज संभाल लिया है।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी साउथ अफ्रीका की टीम ने पहली पारी में महज 162 रन बनाए और वह ऑलआउट हो गई। ऐसे में भारतीय टीम को पहली पारी में 335 रनों की बढ़त मिली। इसके बाद अफ्रीकी टीम फॉलोऑन भी बचा नहीं पायी।

पहली पारी के आधार पर भारत को 335 रनों की बढ़त मिली, इसके साथ ही आपको बता दें कि अफ्रीकी टीम फॉलोऑन नहीं बचा पाई, जिसके बाद उन्हें फिर से बल्लेबाजी के लिए उतरना पड़ा। फॉलोऑन मिलने के बाद दूसरी पारी में तीसरे दिन स्टंप्स तक दक्षिण अफ्रीका ने 8 विकेट गंवा कर 132 रन बनाए हैं

बीसीसीआई और ब्रॉडकास्टर्स इसपर सहमत हो गए हैं कि IPL-13 दो महीने तक चले। अगले महीने फ्रेंचाइजियों को आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की बैठक में इस बारे में सूचित कर दिया जाएगा। वहीं, आईपीएल की अधिकतर फ्रेंचाइजी मैच जल्दी शुरू कराने के पक्ष में हैं।  

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच टेस्ट सीरीज का आखिरी मुकाबला रांची में खेला जा रहा है। टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। इसके बाद भारत ने अपनी पहली पारी 9 विकेट पर 497 रन बनाकर घोषित कर दी।

रोहित शर्मा के अलावा आज भारतीय टीम के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे ने अपने टेस्ट करियर का 11वां शतक ठोका। रहाणे ने 169 गेंदों में 14 चौके और 1 छक्के की मदद से अपने 100 रन पूरे किए।

अजिंक्य रहाणे की बात करें तो उन्होंने तीन साल बाद भारत में शतक ठोका है। रहाणे ने साल 2016 में अपना आखिरी टेस्ट शतक भारत में ठोका था। यह शतक रहाणे ने न्यूजीलैंड के खिलाफ जड़ा था।

सहवाग ने हमेशा भारतीय टीम को एक तेज शुरुआत दी है। सहवाग गेंदबाजों पर शुरू से ही हावी हो जाते थे। सहवाग अगर अपने फॉर्म में हों तो किसी भी आक्रमण को ध्वस्त करने की क्षमता रखते हैं। सहवाग जब तक क्रीज पर रहते थे, तब तक विरोधियों के माथे पर उनकी क्रीज पर मौजूदगी का खौफ साफ-साफ देखा जा सकता था।