Politics

सपा अध्यक्ष ने रविवार को कहा कि दिल्ली के तुगलकाबाद में संत रविदास मंदिर को तोड़े जाने की घटना ने समाज के एक बड़े वर्ग की भावना को ठेस पहुंचाने का काम किया है।

जिसमें सपा से गठबंधन को लेकर विचार करके निर्णय लिया जाएगा। बीते शुक्रवार को सपा मुखिया अखिलेश यादव के आमंत्रण पर सुभासपा प्रमुख ओम प्रकाश राजभर उनसे मिलने गये थे।

महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता ने कहा कि कई दौर की बैठकें हो गयी हैं और ज्यादातर सीटों को लेकर हमारे बीच सहमति बन गयी है। आशा है कि जिन कुछ सीटों को लेकर बात अटकी हुई है उन पर भी फैसला हो जाएगा।

छत्तीसगढ़, केरल, त्रिपुरा, और यूपी, चार राज्य विधान सभा सीटों पर उपचुनाव की तारीखों का एलान कर दिया गया है। इन सभी राज्यों की विधान सभा सीटों पर मतदान 23 सितंबर को सम्पन्न होंगे।

उन्होंने 1977 में दिल्ली विश्‍वविद्यालय के विधि संकाय से विधि की लॉं की डिग्री हासिल की। वैसे बता दें, जेटली कई दिग्गज नेताओं के लिए केस भी लड़ चुके हैं। जनता दल के नेता शरद यादव, कांग्रेस नेता माधव राव सिंधिया और बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी जैसे दिग्गज नेता शामिल हैं।

शनिवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी विपक्ष के 12 नेताओं के साथ श्रीनगर पहुंचे थे। हालांकि, प्रशासन ने उनको एयरपोर्ट से ही वापस लौटा दिया गया। राहुल के साथ सीपीआई, डीएमके, एनसीपी, जेडीएस, आरजेडी और तृणमूल के नेता श्रीनगर पहुंचे थे।

पिछले साल 16 अगस्त को पार्टी के शीर्षस्थ नेता एवं देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी के निधन के बाद अनन्त कुमार, मनोहर पर्रिकर, सुषमा स्वराज और आज अरुण जेटली का निधन हो गया।

भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का दिल्ली के एम्स में शनिवार को निधन हो गया। अरुण जेटली लंबे समय से बीमार थे और एम्स में उनका इलाज चल रहा था।

बीजेपी में अगर किसी की बात चली तो वो सिर्फ पीएम मोदी और अमित शाह थे। इनके अलावा अगर पार्टी में किसी नेता की बात सुनी गयी तो वो अरुण जेटली थे। जेटली के बाद राजनाथ सिंह का नाम आता था। जेटली ने पीएम मोदी के लिए काफी कुछ किया।

पीएम मोदी के जेटली और स्वराज के साथ काफी अच्छे संबंध थे। जेटली और सुषमा स्वराज ने मोदी सरकार-1 में केंदीय मंत्री थे। कहा जाता है पीएम मोदी को बनाने वाले अरुण जेटली ही थे। आज जिस मुकाम पर पीएम मोदी हैं, उसमें कहीं न कहीं जेटली का भी हाथ है।