Top

Firozabad Crime News: पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर पति को उतारा मौत के घाट, पुलिस ने किया गिरफ्तार

स्वाट टीम व नगला खंगर पुलिस टीम द्वारा 31 मई 2021 को नगला जोरे में सर्वेश की हत्या का सनसनीखेज खुलासा किया, उसके बारे में विस्तृत जानकारी दी।

Brijesh Rathore

Brijesh RathoreReporter Brijesh RathoreMonikaPublished By Monika

Published on 10 Jun 2021 11:13 AM GMT

wife put her husband to death
X

पति की हत्या के बाद गिरफ्तार हुई पत्नी 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

फिरोजाबाद: पुलिस लाइन सभागार में एसएसपी अशोक कुमार ने वार्ता के दौरान स्वाट टीम व नगला खंगर पुलिस टीम द्वारा 31 मई 2021 को नगला जोरे में सर्वेश की हुई हत्या का सनसनीखेज खुलासा किया गया उसके बारे में विस्तृत जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि थाना नगला खंगर क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम नगला जोरे में एक व्यक्ति सर्वेश कुमार पुत्र नाथूराम की हत्या के संबंध में थाना नगला खंगर पर धारा 302, 323, 506 भादवि बनाम राजन सिंह, दीवान सिंह, रामपाल पुत्रगण नाथूराम, अनुज पुत्र दीवान सिंह निवासीगण नगला जोरे थाना नगला खंगर फिरोजाबाद पंजीकृत किया गया। उनके निर्देशन में मामले के सफल अनावरण को स्वाट टीम को लगाया गया। जिसमें एसपी ग्रामीण व सीओ सिरसागंज के कुशल निर्देशन में स्वाट टीम द्वारा सात दिनों तक नगला जोरे में कैम्प किया गया।

पुलिस ने दोनों आरोपियों को पकड़ा

जिसमें गहन छानबीन के बाद सनसनीखेज खुलासा सामने आया। स्वाट टीम एवं नगला खंगर पुलिस के ठोस साक्ष्य संकलन के आधार पर सामने आया कि मृतक सर्वेश की हत्या उसकी पत्नी सरोज उम्र 30 वर्ष पुत्री किशनपाल निवासी राजा का ताल थाना टूण्डला व सरोज के प्रेमी गोलू उर्फ गौतम पुत्र भारत सिंह निवासी नगला जोरे द्वारा की गयी है। दोनों को स्वाट टीम व नगला खंगर पुलिस द्वारा दस जून 2021 को गढिया पंचवटी के पास एक्सप्रेस वे पुल के ऊपर से गिरफतार किया है। जिनको लेकर विधिक कार्यवाही की जा रही है।

दस हजार का नकद पुरस्कार मिला

बताया गया कि 28 मई 2021 को जिन पर इल्जाम लगाया उनके द्वारा मारपीट की गई, इसलिए उनका नाम तहरीर में दिया। इस प्रकार निष्पक्ष कार्यवाही कर गंभीरता से साक्ष्य संकलन के परिणामस्वरूप चार नामित आरोपी जो निर्दोष थे जेल जाने से बच गये। उक्त दोनों पुलिस टीमों को एसएसपी अशोक कुमार द्वारा दस हजार का नकद पुरस्कार दिया गया।

Monika

Monika

Next Story