Top

इस बच्‍चा जेल में कानून ताक पर, जेल से बाहर पानी लेने जाते हैं कैदी

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 21 Jun 2018 12:34 PM GMT

इस बच्‍चा जेल में कानून ताक पर, जेल से बाहर पानी लेने जाते हैं कैदी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: कानपुर की बच्चा जेल हमेशा से विवादों में रही है। यहां कानून को ताक पर रखकर काम होता है। इस जेल की एक ऐसी तस्‍वीर सामने आई है जो ये जेल के नियमों की पोल खोलने के लिए काफी है। इस तस्‍वीर में बाल कैदी जेल के बाहर से बाल्टी में पानी ले जाते दिख रहे हैंl दरअसल जेल के अन्दर लगे समर्सेबल पम्प की मोटर कई दिनों से ख़राब है l बाल कैदी बगल के प्लाट से पानी भर रहे हैं। ऐसा तब है जब गुरुवार को एक बाल बंदी ने भागने का प्रयास किया। लेकिन समय रहते उसे फिर से पकड़ लिया गया।

पांच दिनों से पानी को तरसे कैदी

नौबस्ता थाना क्षेत्र स्थित बौद्ध नगर में राजकीय संप्रेक्षण गृह (किशोर) हैl इस बच्चा जेल में लगभग 45 बाल बंदी हैं। यह तीन मंजिला इमारत है। जो चारों तरफ से कवर्ड है। दरअसल इस बंदी गृह में पिछले पांच दिनों से पानी नहीं आ रहा है। मोटर ख़राब है लेकिन इस दिशा में ध्यान नहीं दिया जा रहा हैl बगल के खाली प्लाट में लगे हैण्डपम्प से पानी की पूर्ति की जा रही हैl यह पानी बंदी गृह के कमर्चारी नहीं भरते बल्कि बंदियों से यह पानी भराया जा रहा हैl इसके लिए बाल बंदियों को जेल से बाहर आना पड़ता है इस दौरान वह आराम से घूमते हैं और मौज मस्ती करते हैंl जरूरत के हिसाब से पानी भरते हैं। इस दौरान वहां पर जेल के केयर टेकर और अन्य कर्मचारी भी मौजूद नही रहते है l

फरवरी में हुआ था खूनी संघर्ष

फरवरी माह में बाल बंदियों के दो गुटों में खूनी संघर्ष हुआ था। इस घटना के कुछ दिन बाद चार बंदी चादर से चादर जोड़ कर दूसरी मंजिल से भाग गए थे l जिसमें वहां तैनात होमगार्ड को सस्पेंड भी कर दिया गया थाl बताते चलें कि बीते 12 फरवरी को इसी बच्चा जेल में दो गुटों में जमकर लाठी डंडे चले थे l बाल बंदियों ने जेल अधीक्षक को चाकू लेकर दौड़ाया था l बीते सोमवार को कानपुर देहात की पुलिस कोर्ट के आदेश पर चार बंदियों को माती जेल ले जाने के लिए आई थी l यह चारो बंदी 18 साल से ऊपर हो गए थे इन्हें माती जेल में शिफ्ट किया जाना थाl बवाल के बाद चार बाल कैदियों को कानपुर देहात की पुलिस ले गई थी l

इसके बाद बीते 15 फरवरी को चार बाल कैदी खिड़की की ग्रिल काट कर चादर से चादर जोड़ कर उसकी रस्सी बनाकर 40 फिट ऊंची दीवार कूद कर भाग गए थेl

अधिकारी बोले- बंदियों की मदद ले रहे हम

जिला प्रोबेशन अधिकारी अभिषेक पाण्डेय के मुताबिक गुरुवार को बाल कैदी भाग नहीं रहा था l वो पानी भरने के लिए गया था। जब वहां पर पानी नहीं आया तो वह सड़क के पार लगे हैंडपंप में पानी भरने के लिए जाने लगा l तभी लोगों ने समझा कि बाल कैदी भाग रहा है और उसे दौड़ा कर पकड़ लिया l बंदी गृह की पानी की मोटर ख़राब थी इस लिए बाहर से बंदियों से पानी भराया जा रहा थाl यह बात एक्ट में लिखी है कि भोजन बनाने ,साफ़ सफाई में बाल बंदियों की मदद ले सकते है l l इसके साथ ही 5 बाल बंदियों की एक कमिटी बनाई जाती है उन्हीं से यह काम कराया जाता है जो सहयोग करते हैl किसी को काम करने के लिए बाध्‍य नहीं करते हैं।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story