Top

सावधान: इस स्‍टेशन पर टहल रही विषकन्‍याएं, इनके झांसे में आए तो गंवा देंगे सब कुछ...

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 5 Sep 2018 10:58 AM GMT

सावधान: इस स्‍टेशन पर टहल रही विषकन्‍याएं, इनके झांसे में आए तो गंवा देंगे सब कुछ...
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर: अगर आप ट्रेन में सफर कर रहे हैं तो थोड़ा अलर्ट हो जाएं क्योंकि थोड़ी सी लापरवाही आपकी पूरी यात्रा खराब कर देगी। पूर्वांचल के रेल सफर में 13 विषकन्याओं (जहरखुरानों) का साया है। यह महिला जहरखुरान काफी शातिर हैं। पढ़ी लिखी होने के साथ ही दिखने में यह सभ्य और अच्छे समाज की लगती हैं। दिखने में इतनी मासूम कि कोई भी यात्री इनसे दोस्ती कर इनके झांसे में फंसकर अपना सबकुछ गवां देगा। इन विषकन्याओं से बचने के लिए रेलवे जीआरपी अब लोगों को जागरूक करने में लगा है और प्लेटफार्म पर यात्रा करने वाले लोगों को इनकी तस्वीर दिखाकर सावधान कर रहा है।

जीआरपी-आरपीएफ ने छेड़ रखा है अभियान

गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर जीआरपी और आरपीएफ की टीम इन दिनों एक विशेष अभियान पर हैं। हर रोज कई टीमें गोरखपुर रेलवे स्टेशन के अलग-अलग प्लेटफार्म पर हाथों में मोबाइल लेकर लोगों को एक महिला की तस्वीर दिखाकर उनको आगाह कर रहे हैं। आजकल इनकी कई टीमें गोरखपुर रेलवे स्टेशन के अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर निकल रही हैं। पर ये टीमें किसी तलाशी अभियान के लिए नहीं बल्कि लोगों को कुछ महिलाओं से बचाने के लिए निकल रही हैं। चाहे अधिकारी हो या फिर सिपाही इनके हाथों में मोबाइल और मोबाइल में अलग अलग महिलाओं की फोटो देखकर हर कोई यह आश्चर्य कर रहा है कि आखिर कौन सी महिलाएं हैं, जिनकी तस्वीर हर वर्दी वाले के हाथ में है। यह सभी महिलाएं जिनकी तस्वीर आप अलग-अलग मोबाइल में देख रहे हैं, वह सभी इस रेलवे स्टेशन की विषकन्यायें हैं। जी हां, सही सुना आपने। विषकन्याएं, जो यात्रियों में जहर बांटती हैं।

एक दर्जन से ज्‍यादा महिलाएं इस रैकेट में शामिल

रेलवे स्टेशन पर पिछले कुछ सालों में अलग-अलग गैंग की गिरफ्तारी के बाद यह बात सामने आया है कि एक दर्जन से अधिक महिलाएं इस समय जहरखुरानी के धंधे में लगी हुई हैं। ट्रेनों में आए दिन होने वाली जहर खुरानी की वारदात के पीछे इनमें से कइयों का हाथ होता है। पुरुष जहरखुरानों पर जीआरपी और आरपीएफ पर शिकंजा होने की वजह से अब यह विषकन्याएं लोगों को जहर देकर उनको लूटने के लिए प्लेटफार्म और ट्रेन के अंदर अपने शिकार को तलाशती हैं। किसी भोली भाली महिला से मिलकर यह पहले तो उससे अपनी नजदीकी बढाती हैं और फिर जब इनका शिकार जब इनके वश में आ जाता है तो उससे अपने साथ रखे हुए खाने पीने के सामान को शेयर करती हैं। उस जहर को खाकर इनका शिकार जब अचेत होने लगता है तो यह उसे लूट कर फरार हो जाती हैं।

सीमा सिंह है सबसे शातिर

इन सभी में जिस महिला का नाम सबसे ऊपर आता है उसका नाम सीमा सिंह है। सीमा बलिया जिले की रहने वाली है और पिछले कई सालों से जहरखुरानी के इस धंधे में सक्रिय है। उसका खुद का एक अपना गैंग है, जिसमें वह महिलाओं को ही भर्ती करती है। दिखने में घरेलू महिला जैसी लगने वाली सीमा स्लीपर और जनरल क्लास में यात्रियों को सबसे ज्यादा अपना शिकार बनाती है। इसके ऊपर गोरखपुर और बनारस डिवीजन में कई मुकदमे दर्ज हैं और यह अभी भी फरार चल रही है। जीआरपी के लिए यह महिला जहरखुरान अब सिरदर्द बन चुकी हैं। ऐसे में इनसे निपटने के लिए जीआरपी ने अब तकनीक का सहारा लिया है। इन सभी के पोस्टर रेलवे स्टेशन के अलग-अलग जगहों पर चिपकाने के साथ ही अब जीआरपी और आरपीएफ के सिपाही और अधिकारी खुद लोगों को इनके बारे में बताने के लिए निकल रहे हैं। प्लेटफॉर्म पर ट्रेन के आने और जाने के पहले हाथों में मोबाइल लेकर यह इन सभी महिला जहरखुरानों की तस्वीर यात्रियों को दिखाते हैं। इसे शेयर करते हैं और लोगों को इनसे बचने के लिए आगाह करते हैं। जीआरपी की इस पहल का यात्री भी अब स्वागत कर रहे हैं और इन महिला जहरखुरानों की तस्वीर अपने मोबाइल में कैद कर इसे एक दूसरे को फॉरवर्ड कर रहे हैं।

गिरफ्तारियों के बावजूद जारी है अपराध

जीआरपी सीओ श्री प्रकाश राय ने बताया कि रेलवे स्टेशन पर पिछले कुछ सालों में अलग-अलग गैंग की गिरफ्तारी हुई हैं। जिससे उनके गैंग के बारे में पता भी चला है। वह किस तरह से लोगों को अपना शिकार बना रही हैं ।जीआरपी द्वारा स्टेशन और प्लेटफॉर्म पर ट्रेन के आने और जाने के पहले हाथों में मोबाइल लेकर यह इन सभी महिला जहरखुरानों की तस्वीर यात्रियों को दिखाते हैं। इसे शेयर करते हैं और लोगों को इनसे बचने के लिए जागरूक और आगाह करते हैं।

वही, चोरी और एनडीपीएस एक्ट में जेल गयी कई महिलाएं भी इस धंधे में सक्रिय हैं। यह मेलजोल बढ़ाकर शिकार फंसाती हैं और लूटने का काम इनके साथ के पुरुष करते हैं। मासूम सी दिखने वाली इन विषकन्याओं के चक्कर में अब तक कई लोग अपना सब कुछ गवां बैठे हैं। गोरखपुर और बनारस डिविजन में 13 महिला जहरखुरानों को चिन्हित किया गया है। जिनमे से 3 देवरिया की रहने वाली हैं। ट्रेनों में आए दिन जहरखुरानी से परेशान जीआरपी और आरपीएफ ने जहरखुरानों का डॉजियर बनाया है। डॉजियर बनाने के साथ ही लोगों के बीच इनकी तस्वीर शेयर की जा रही है और स्टेशनों पर इसे चस्पा भी किया जा रहा है। आम लोगों के बीच यह सभी महिला जहरखुरान विषकन्या के रूप में फेमस हो गयी हैं और अब इनसे बचने के लिए जागरूकता का सहारा लिया जा रहा है।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story