Top

लाइसेंस के बदले महिला अधिकारी ने मांगी रिश्वत, रंगे हाथों धरी गईं

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 19 Jan 2018 9:41 AM GMT

लाइसेंस के बदले महिला अधिकारी ने मांगी रिश्वत, रंगे हाथों धरी गईं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ललितपुर : उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले में खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग में निरीक्षक पद पर तैनात एक महिला अधिकारी को भ्रष्टाचार रोधी दल ने गुरुवार शाम 20 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया है। यह जानकारी दल के प्रभारी निरीक्षक ने शुक्रवार को दी। भ्रष्टाचार रोधी दल के प्रभारी निरीक्षक(झांसी) आर.एन. सिंह ने कहा कि शहर कोतवाली क्षेत्र के रहने वाले नीरज कुमार ने मेडिकल स्टोर खोलने के लिए लाइसेंस का आवेदन प्रस्तुत किया था, जिसमें रपट लगाने के एवज में खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग की निरीक्षक प्रीति सिंह ने उससे 20 हजार रुपये रिश्वत मांगी थी। उसने विजलेंस टीम से संपर्क साध इसकी शिकायत दर्ज कराई थी।

ये भी देखें : Survey: देश के करीब 45% लोगों को काम कराने के लिए देनी पड़ी रिश्वत

उन्होंने बताया कि गुरुवार शाम महिला अधिकारी ने नीरज को रुपये लेकर बुलाया था। टीम ने रसायन पाउडर लगे 20 हजार रुपये नीरज को देकर वहां भेजा, जिसे हाथ में लेते ही महिला अधिकारी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

निरीक्षक सिंह ने बताया, "गिरफ्तार महिला अधिकारी के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जेल भेज दिया गया है।"

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story