Top

एशियन चैंपियंस ट्रॉफी-2018: रफ्तार और हुनर के आगे सब लाचार, आज इंडिया से भिड़ेगा मलेशिया

Anoop Ojha

By Anoop Ojha

Published on 23 Oct 2018 6:43 AM GMT

एशियन चैंपियंस ट्रॉफी-2018: रफ्तार और हुनर के आगे सब लाचार, आज इंडिया से भिड़ेगा मलेशिया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : ‘’हम उनकी रफ्तार और हुनर का सामना नहीं कर सके’’ भारतीय हॉकी टीम से पराजय के बाद यह कहना जापान के कोच सीगफ्राइड ऐकमैन का है।भारतीय हॉकी को लय मिल रही है। हौसला तो इस कदर बढ़ा हुआ है कि जो समने आ रहा है उसे भारतीय टीम रौदते हुए विजयी अभियान जारी रखा है।भारतीय हॉकी टीम एशियन चैंपियंस ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन कर रही हैं। टीम ने अब तक खेले अपने तीनों मैच में जीत हासिल की है।

Asian Champions Trophy 2018: भारतीय हॉकी टीम की रफ्तार और हुनर के आगे सब लाचार

भारतीय टीम छह टीमों के इस टूर्नामेंट में 9 अंक लेकर शीर्ष पर है। मलेशिया छह अंक के साथ दूसरे स्थान पर है।भारत ने इस दौरान अपने सबसे बड़े प्रतिद्वंदी पाकिस्तान को घूल चटा दी है। भारत से मिली इस हार ने पाकिस्तानी टीम को सदमें में ला दिया है। इसके कारण टीम के अधिकारियों के बीच ही दरार आ गई है। दरार के कारण ही टीम के हेड कोच सकलेन टूर्नामेंट के बीच ही टीम का साथ छोड़कर पाकिस्तान वापस चले गए हैं।भारतीय टीम इस टूर्नामेंट में मौजूदा विजेता के रूप में उतरी है। अब तक अपने तीनों राउंड-रोबिन मैच खेल चुकी भारतीय टीम का अगला मुकाबला आज मलेशिया से होगा।

यह भी पढ़ें .....भारतीय हॉकी टीम की ऐतिहासिक जीत, 86 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा

पिछली बार टूर्नमेंट में भारत को नहीं मिली थी हार

पिछली बार टूर्नमेंट में भारत को हार का मुंह नहीं देखना पड़ा था, उसने जापान को 10-2 से हराया था, इसके बाद दक्षिण कोरिया से 1-1 से ड्रॉ खेला, पाकिस्तान को 3-2 और चीन को 9-0 से हराने के बाद मलयेशिया को 2-1 से पराजित किया था।

यह भी पढ़ें .....चक दे इंडिया रिटर्न्स : टूर्नामेंट के लिए रवाना हुई भारतीय हॉकी टीम

Asian Champions Trophy 2018: भारतीय हॉकी की रफ्तार और हुनर के आगे सब लाचार

दो बार भारत ने जीता है खिताब

भारत और पाकिस्तान दो दो बार यह खिताब जीत चुके हैं। भारत ने 2011 में शुरूआती और 2016 में ट्राफी हासिल की थी जबकि पाकिस्तान ने 2012 और 2013 में खिताब जीता था।

यह भी पढ़ें .....RIO: अंतिम मिनट में गोल दाग जर्मनी ने भारतीय हॉकी टीम को 2-1 से हराया

कोच हरेंद्र भारत के प्रदर्शन से संतुष्ट

भारतीय कोच हरेंद्र सिंह ने प्रदर्शन पर संतोष जताते हुए कहा ,‘‘ हमने अच्छा खेल दिखाया है। खिलाड़ियों ने रणनीति पर अमल करके जापान को खुलकर खेलने नहीं दिया।’’ आकाशदीप सिंह ने 36वें और सुमित ने 42वें मिनट में गोल दागे।

यह भी पढ़ें .....मुश्किलें होंगी कम: भारतीय हॉकी टीम को मिला गया नया प्रायोजक

भारत की रफ्तार के आगे हारा जापान— कोच सीगफ्राइड ऐकमैन

पाकिस्तान के दो मैचों में तीन अंक है जबकि जापान के तीन मैचों में तीन अंक है।दक्षिण कोरिया और ओमान अपने दोनों मैच हार चुके हैं। जापान के कोच सीगफ्राइड ऐकमैन ने कहा, ‘‘हमने अपनी ओर से पूरी कोशिश की लेकिन भारतीय टीम काफी मजबूत थी। हम उनकी रफ्तार और हुनर का सामना नहीं कर सके।’’

यह भी पढ़ें .....यूथ ओलम्पिक (हॉकी) : भारतीय महिलाओं को मिला रजत पदक

मैच का लाइव टेलीकास्ट

मैच का लाइव टेलीकास्ट स्टार स्पोर्ट्स नेटवर्क के चैनलों पर हो रहा है। ऑनलाइन स्ट्रीमिंग

मैच की हॉटस्टार पर ऑनलाइन स्ट्रीमिंग हो रही है।

यह भी पढ़ें .....लंदन में हॉकी प्रदर्शनी से भारतीय महिला टीम को मिली प्रेरणा

मैच की जगह

मैच ओमान के मस्कट में सुल्तान कबूस स्टेडियम में खेला जाएगा

मैच का समय

मैच रात 10:40 पर शुरू होगा

Asian Champions Trophy 2018: भारतीय हॉकी की रफ्तार और हुनर के आगे सब लाचार

यह भी पढ़ें .....Men’s हॉकी विश्व कप: FIH प्रतिनिधिमंडल ने यहां लिया तैयारियों का जायजा

अर्जुन अवॉर्ड से नवाजे गए अनुभवी सेंटर हाफ मनप्रीत सिंह भारत की 18 सदस्यीय टीम की अगुवाई मस्कट (ओमान) में कर रहें है। इा बार भारतीय टीम में सात बदलाव किए गए हैं।तीन बदलाव रक्षापंक्ति में, तीन मध्यपंक्ति में और एक अग्रिम पंक्ति में किया गया है।

यह भी पढ़ें .....पुरुष हॉकी टीम के कोच ने कहा- विश्वकप में किसी टीम को कमजोर नहीं मानेंगे

फुलबैक गुरिंदर सिंह, कोथाजीत सिंह, जर्मनप्रीत सिंह, मिडफील्डर सुमित, नीलकांत शर्मा और फॉरवर्ड गुरजंत सिंह की भारतीय टीम में वापसी हुई है। फुलबैक हार्दिक सिंह भारतीय सीनियर टीम में जगह बनाने वाले एकमात्र नए खिलाड़ी है।

यह भी पढ़ें .....हॉकी : ओडिशा वर्ल्ड लीग फाइनल, जाने कब से और कहां

एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी के लिए भारतीय टीम

गोलरक्षक- पीआर श्रीजेश, कृष्ण बहादुर पाठक।

रक्षापंक्ति- हरमनप्रीत सिंह, गुरिंदर सिंह, वरुण कुमार, कोथाजीत सिंह , सुरेन्दर कुमार,जर्मनप्रीत सिंह , हार्दिक सिंह।

मध्यपंक्ति- मनप्रीत सिंह(कप्तान),सुमित, नीलकांत शर्मा, ललित कुमार उपाध्याय, चिंगलेनसाना सिंह।

अग्रिम पंक्ति- आकाशदीप सिंह, गुरजंत सिंह, मनदीप सिंह, दिलप्रीत सिंह।भारतीय टीम में जगह न पाने वाले ज्यादातर खिलाडिय़ों का ओडिशा हॉकी विश्व कप के लिए भारतीय टीम में जगह पाने का रास्ता करीब करीब बंद हो गया है।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story