Top

हॉकी विश्व कप: बेल्जियम के खिलाफ भारत की 'अग्निपरीक्षा' आज

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 2 Dec 2018 10:08 AM GMT

हॉकी विश्व कप: बेल्जियम के खिलाफ भारत की अग्निपरीक्षा आज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: विश्व कप में शानदार शुरुआत के बाद भारतीय हॉकी टीम के सामने आज दुनिया की तीसरे नंबर की टीम बेल्जियम के रूप में कठिन चुनौती होगी। पिछले 43 साल में पहली बार विश्व कप में पदक जीतने की प्रबल दावेदार भारतीय टीम ने 16 देशों के टूर्नामेंट में कमाल के अंदाज में शुरुआत करते हुए पहले मैच में साउथ अफ्रीका को 5-0 से हराया।

भारत ने हॉकी विश्व कप में यहां दक्षिण अफ्रीका पर दमदार जीत के साथ आगाज कर जरूरी लय पा ली है। लिंकमैन के नए रोल में आकाशदीप सिंह ने पहला इम्तिहान अव्वल नंबर से पास कर दर्शाया है कि वह यहां इस बार भारत के 'तुरुप के इक्के' रहने वाले हैं। उन पर खुद गोल करने के साथ भारत के लिए गोल के अभियान बनाने का भी दारोमदार रहेगा।

ये भी पढ़ें— पोलैंड में आज से UN जलवायु शिखर सम्मेलन, भारत को सकारात्मक उम्मीदें

भारत को आक्रामक हॉकी खेलनी होगी

बेल्जियम के खिलाफ जीतने के लिए भारत को आक्रामक हॉकी खेलनी होगी जो कि उसकी ताकत है और अपनी मध्यपंक्ति को कसना होगा। भारत के चीफ कोच हरेन्द्र सिंह ने बेल्जियम के खिलाफ मैच से पहले यह सही कहा है कि बेल्जियम के खिलाड़ी डी में खतरनाक हैं और टीम की कोशिश यही होगी कि गेंद को उनके कब्जे से दूर रखा जाए और इसी रणनीति से खेलेंगे। यदि भारत दुनिया की तीसरे नंबर की टीम बेल्जियम को हराता है तो उसकी अंतिम आठ की राह आसान हो जाएगी। पूल सी में ही कनाडा का सामना दक्षिण अफ्रीका से होगा।

ये भी पढ़ें— राजधानी में आज से सैन्य चिकित्सा को बेहतर बनाने के लिए जुटेंगे कई देशों के रक्षा मंत्री

बेल्जियम के खिलाफ भारत का पिछले पांच साल में रिकॉर्ड काफी खराब रहा है

बेल्जियम के खिलाफ भारत का पिछले पांच साल में रिकॉर्ड काफी खराब रहा है। भारत दुनिया की पांचवें नंबर की टीम है लेकिन बेल्जियम के खिलाफ उसे जीत हासिल करने के लिए अपना पूरा दमखम लगाना पड़ेगा। बेल्जियम रियो ओलंपिक की कांस्य विजेता टीम है और उसने अपने पहले मैच में कनाडा को धूल चटाई थी।

ये भी पढ़ें— ‘नेशनल पोल्यूशन कंट्रोल डे’ का क्या है भोपाल गैस त्रासदी से संबंध, जानें सब कुछ

लय कायम रखनी होगी: भारतीय टीम के लिए प्रदर्शन में निरंतरता बनाए रखना हमेशा मुश्किल रहा है। पर बेल्जियम के खिलाफ उसे हर हाल में इस कमजोरी पर काबू पाना होगा और जीत की लय कायम रखनी होगी। भारत का बेल्जियम से आखिरी बार सामना इस साल चैंपियंस ट्रॉफी में हुआ था। इस मैच में आखिरी पलों में गोल गंवाने के कारण भारत को 1-1 से ड्रॉ खेलना पड़ा था।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story