akhilesh

मनीष श्रीवास्तव लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भारत सरकार डीजल-पेट्रोल की कीमतों में मनमानी वृद्धि करने की आदी हो गई है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भले इसकी कीमतों में गिरावट आए, देश में उसकी कीमत कम नहीं होती है। विश्व में सबसे ज्यादा टैक्स 279 प्रतिशत भारत में वसूला …

सपा अध्यक्ष मंगलवार को वीडियोंकाॅलिंग के जरिए पार्टी नेताओं-कार्यकर्ताओं से सम्पर्क कर संगठनात्मक गतिविधियों की जानकारी लेते हुए निर्देश दिया कि गरीबों-कमजोरों की मदद जारी रखे तथा वर्ष 2022 में भाजपा को हराने के लक्ष्य को ध्यान में रखकर सक्रिय व संगठित रहें।

सपा अध्यक्ष ने शुक्रवार को ‘पर्यावरण दिवस‘ के अवसर पर पार्टी मुख्यालय में पौराणिक व ऐतिहासिक महत्व के 16 फिट ऊंचे दो पारिजात वृक्ष लगाए।

अखिलेश ने बताया कि पार्टी के बड़े नेताओं की राय है कि पार्टी अब किसी भी दल के साथ समझौता न करके अकेले चुनाव लड़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनता को भाजपा से सावधान रहना पडेगा।

सपा अध्यक्ष ने सोमवार को कहा कि भाजपा सरकार पर पिछले 6 सालों में अर्थव्यवस्था को पहले ही बर्बाद कर दिया था और अब कोविड-19 के बाद देश की अर्थव्यवस्था फ्रीफाल की स्थिति में है।

सपा अध्यक्ष ने शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की 33वीं पुण्यतिथि के अवसर पर पार्टी कार्यालय लखनऊ में उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धा व्यक्त करते हुए कहा कि चौधरी चरण सिंह ने गांवों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कृषि को ताकत देने की नीतियों को लागू किया।

सपा अध्यक्ष ने शनिवार को कहा कि आपदा के समय अपने भाग्य पर छोड़ दिए गए मजदूर अपने परिवार की महिलाओं और मासूम बच्चों के साथ जिन दर्दनाक हालत से गुजर रहे हैं वह सबूत है भाजपा सरकार के मानवता विरोधी रवैये का।

सपा अध्यक्ष ने मंगलवार को कहा कि भाजपा सरकार के अदूरदर्शी निर्णयों और कामकाज में नियोजन तथा समन्वय के अभाव से कोराना संकट के दौर में समस्याएं कम होने के बजाय बढ़ती जा रही है।

अखिलेश ने कहा कि सत्ता और विपक्ष की संयुक्त भूमिका से ही प्रदेश के समक्ष उत्पन्न गम्भीर समस्याओं का निदान हो सकता है। सपा अध्यक्ष ने गुरुवार को कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई लम्बी चलने वाली है।

यूपी के बरेली में इधर-उधर से आए मजदूरों को सैनिटाइजर से नहलाने का केस बढ़ता ही जा रहा है। कई राजनीतिक पार्टियों ने इस कृत्य की कठोर निंदा की है।