america

इस पूरे मामले अमेरिका की शीर्ष स्वास्थ्य एजेंसी बड़ी लापरवाही सामने आ रही है। जिसने जंगल की आग की तरह महामारी को पूरे अमेरिका में फैलने दिया। अमेरिका में अब तक करीब 44 हजार लोग संक्रमित पाए गए हैं और 560 की मौत हो चुकी है। एक दिन में दस हजार से अधिक नए मामले पता चले हैं।

एक ओर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया है तो दूसरी ओर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पूरी तरह बंदी लागू नहीं करने पर अड़े हुए हैं।

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में तबाही मचाई हुई है। सारे देश अपने तरीके से इससे लड़ने के लिए जुटे हुए हैं। इस शक्तिशाली देश की भी हालत खस्ता हो रही है लेकिन राष्ट्रपति ने देश मेंं बंदी करने से मना किया है। आखिर क्यों मना किया, पढ़िए-

कोरोना वायरस से बचने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सलाह मानना एक शख्स के लिए भारी पड़ गया। कोरोना वायरस से बचने के चक्कर में उसकी जान चली गई।

दुनिया के कई देश कोरोना से जंग में मशक्कत कर रहे हैं। अमेरिका भी चपेट में है लेकिन वह अब तक दो देशों को मदद की पेशकश कर चुका है। पहले उसने चीन से कहा था लेकिन उसकी पेशकश ठुकरा दी गई। अब उसने इस देश को....

अमेरिका में आईएसआईएस की मदद करने की कोशिश और अमेरिका में हमले की इच्छा व्यक्त करने के मामले में एक पाकिस्तान चिकित्सक को गिरफ्तार किया गया है।

पूरी दुनिया को खौफ में कोरोना वायरस ने जकड़ लिया है, वहीं कई देशों ने इससे लड़ाई में कामयाबी भी पाई। छोटा सा देश सिंगापुर भी इसका उदाहरण है। चीन के करीब और अंतरराष्ट्रीय परिवहन का केंद्र होने की वजह से सिंगापुर में वायरस फैलने का खतरा बहुत ज्यादा था। ऐसे में सिंगापुर की सरकार ने कोरोना के खौफ से निपटने के लिए सख्त कदम उठाए।

अमेरिकी राष्ट्रंपति का यह ट्वीट ऐसे समय पर आया है जब अमेरिका में कोरोना वायरस से संक्रमण के 4576 मामले सामने आए हैं। अमेरिका में 87 लोगों की अब तक मौत हो चुकी है और 60 लोग गंभीर हैं।

ईरान से कोरोना वायरस की जो जानकारी निकलकर सामने आ रही है वो ये है कि इस वायरस की चपेट में आने से यहां पर 135 लोगों की जान चली गई है। दुनिया के कुछ देशों में हालात इस कदर खराब हो गये हैं कि वहां पर कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए आदमी नहीं मिल रहे हैं। 

नई दिल्ली: कोरोना से बचने के लिए दुनिया भर के देशों द्वारा हर संभव कोशिश की जा रही है। इस बिच अमेरिका से कोरोना के साये से बचने के लिए एक अनोखा मामला सामने आ रहा है। अमेरिका में इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर कॉमकास्ट ने 60 दिनों के लिए फ्री वाईफाई देने का ऐलान किया है। …