america

महाशक्तिशाली देश अमेरिका दुनिया के सबसे अमीर देशों में से एक है। यहां एक से बढ़कर एक अमीर लोग रहते हैं। ये अमीर लोगों अपनी धन-दौलत को मैनेज करने के लिए लोगों को ढूंढा करते हैं।

बीते दिन गलवान घाटी भारत और चीन के बीच हुई हिंसात्मक लड़ाई पर पूरी दुनिया अपनी नजर बनाए हुए है। घाटी में हुई इस लड़ाई में भारत के 20 जवान शहीद हो गए, वहीं चीन को भी काफी नुकसान हुआ है लेकिन अभी उसने आधिकारिक तौर पर बताया नहीं है।

अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना की वैक्‍सीन mRNA-1273 के तीसरे चरण का ट्रायल अगले महीने शुरू होने जा रहा है जिसमें 30 हजार लोग हिस्‍सा लेंगे। इस बीच चीन की कंपनी ने कहा है कि वैक्‍सीन लगने के बाद 90 प्रतिशत लोगों में कोरोना से लड़ने की क्षमता सामने आई है।

अहिंसा के उपासक का हिंसक अंत हुआ। वे लारोइन मोटेल की छत से संबोधित कर रहे थे : “हम अब कामयाब होंगे। शायद मैं आपके साथ मंजिल तक न पहुंच सकूं|” दूसरे दिन ही (4 अप्रैल 1963) उन्हें जेम्स अली राय नामक गोरे ने गोली मार दी।

कई देश कोविड 19 वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं तो वहीं कई ऐसे भी देश हैं, जो दूसरे देशों से वैक्सीन लेने की तैयारी कर रहे हैं।

एक संक्रमित मरीज के इलाज में करीब 835 लाख का खर्च हुआ है। ये मामला है, अमेरिका के सिएटल का, जहां एक व्यक्ति कोरोना की चपेट में आ गये थे, हालांकि अब वो बिल्कुल स्वस्थ हो गये हैं।

अमेरिका में हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। रंग भेद को लेकर लोगों में टकराव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद फिर एक अश्वेत नागरिक पुलिस के हाथों बेरहमी से मारा गया है।

अमेरिका के भीतर आज अशांति कायम है। अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिंसा में मौत की घटना के बाद अमेरिका के कई नगरों में उत्पन्न हुए प्रदर्शनों ने अमेरिकी समाज में मौजूद नस्लवाद की समस्या को एक बार फिर से केंद्र में ला दिया ।

अमेरिका और यूरोप में कोविड-19 की नई लहर की शुरुआत दिखाई दे रही है। अमेरिका के 14 राज्यों में नए संक्रमणों की भरमार होने लगी है। भारत अभी पहली लहर से ही बुरी तरह जूझ रहा है।

इन दुस्साहसी सीईओ के लिए पहला झटका पिछले सितंबर में आया जब ई-सिगरेट से दुनिया भर में कई मौतें दर्ज की गईं। इससे ई-सिगरेट स्टार्टअप कंपनी जुल की नींव हिल गई।