Bharatiya Janata Party

आज जब प्रधानमंत्री  मोदी  के नेतृत्व में गांव, गरीब, किसान के हितों में फैसले लिए जा रहे तो  विपक्षी दल  फैसलों को गलत साबित करने के लिए झूठ व  देश व प्रदेश का माहौल खराब करने में लगे हुए है। 

देश के किसानों को एक तरफ आतंकवादी और भारत विरोधी बताया जा रहा है तो आन्दोलन स्थल पर विभिन्न प्रकार के षड़यंत्रों के माध्यम से उसे बदनाम करने की भी कोशिश की जा रही है, जो लोकतांत्रिक, संवैधानिक और राजनैतिक मर्यादा के विपरीत है।

कमल को राजनीतिक दल के चिह्न के तौर पर उपयोग करने को लेकर कुछ समय पहले ही हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर हुई थी। याचिका में भाजपा पर राष्ट्रीय फूल कमल के चिह्न के दुरुपयोग का गंभीर आरोप मड़ा गया।

भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में एक चुनावी जनसभा का आयोजन कोटला के श्री आरके कॉलेज के मैदान में हुआ। चुनावी जनसभा में ब्रज क्षेत्र के अध्यक्ष रजनीकांत महेश्वरी ने बोलते हुए कहा कि बीजेपी जातिवादी पार्टी नहीं है ।

भाजपा के वरिष्ठ नेता श्री मोहन प्रसाद थपलियाल और ओबीसी के जिला अध्यक्ष का अचानक जाना बेहद दुःखद है और पार्टी के लिए बहुत बड़ी क्षति है। इस दौरान मुख्यमंत्री दोनों दिवंगत आत्माओं के परिजनों से भी मिले और उनको सांत्वना दिया।

भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता टीम में लगातार अपनी जगह बनाए रखने में कामयाब नूपुर शर्मा के पिता विनय शर्मा व्यवसायी हैं।

केन्द्र सरकार के दूसरे कार्यकाल के  एक वर्ष पूर्ण होने पर भारतीय जनता पार्टी द्वारा एक जून से चलाये जा रहे संपर्क व संवाद अभियान के तहत कल 11 जून से पूरे प्रदेश में ‘परिवार संपर्क ’ अभियान का शुभारम्भ होगा।

कोरोना को लेकर जिस तरह से लॉकडाउन किया गया है उसके बाद से योगी सरकार के मंत्रियों के पास खूब समय है। इनमें से अधिकतर मंत्री विभागीय काम निबटाने के साथ ही अपने परिवार के साथ अलग-अलग तरह से समय व्यतीत कर रहे हैं।

केंद्र सरकार ने 9 अगस्त 2019 को इस स्कीम के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू किया था।योजना के तहत 60 साल की उम्र पूरी होने के बाद किसानों को 3000 रुपये प्रतिमाह पेंशन यानी सालाना 36 हजार रुपये की रकम दी जाएगी।

हम बात कर रहे हैं पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और नरसिम्हा राव के राजनीतिक सलाहकार जितेन्द्र प्रसाद की । जितेन्द्र प्रसाद की कोठी थाना सदर बाजार के कलेक्ट्रेट परिसर के पीछे स्थित है। इस कोठी में जितेन्द्र प्रसाद का परिवार रहता है। तो इसी अहाते में दूसरी कोठी में जितेन्द्र प्रसाद के छोटे भाई जयेंद्र प्रसाद अपने परिवार के साथ रहते है।