Bihar Assembly Election 2020

बिहार चुनाव के नतीजे बता रहे हैं कि प्रदेश की राजनीति में दबंगों का रुतबा बढ़ता ही जा रहा है। नए सदन में दागियों-अमीरों की संख्या में इजाफा हुआ है। चुनाव के बाद की हालत चुनाव के पहले से बेहतर नहीं हुई है और ये साबित हो गया है किसी भी पार्टी को दागियों से कोई परहेज नहीं है।

आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने मीडिया विश्लेषण से बात की और यह जानने की कोशिश की कि इस चुनाव में उनके पार्टी की ओर से कहां कमियां पाई गई। जिसकी वजह से उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा।

खुद को बिहार का अगला मुख्यमंत्री बनने का दावा पेश कर चर्चा में आई पुष्पम प्रिया चैधरी ने चुनाव के दौरान यह भी दावा किया था कि वह बिहार की स्थिति में आमूल-चूल परिवर्तन करके आगामी 5 सालों में देश का सबसे विकासशील राज्य बना देंगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) का स्टारडम एक बार फिर बिहार विधानसभा (Bihar Election) और उत्तर प्रदेश के उपचुनाव (UP By-Poll Results) में साफ साफ दिखा. उत्तर प्रदेश में उपचुनाव की जिम्मेदारी पूरी तरीके से योगी आदित्यनाथ के कंधे पर थी. विपक्षी दल उपचुनाव को योगी सरकार के कामकाज के आकलन के तौर पर …

बिहार विधानसभा की 243 सीटों के लिए हुए चुनाव में एनडीए को वोटों की काउन्टिंग में शुरूआती तौर पर झटका लगा है। कई विधानसभा सीटों पर उसके प्रत्याषी पीछे चल रहे हैं। हांलाकि अभी तक पहले राउंड की ही गिनती हो सकी है।

बिहार विधानसभा की 243 विधानसभा सीटों के लिए तीन चरणों में हुए मतदान के बाद चुनावी तस्वीर आज साफ हो जाएगी। बिहार के अलावा 10 राज्यों की 58 विधानसभा सीटों पर और बिहार की वाल्मीकि नगर लोकसभा सीट पर उप-चुनाव की मतगणना होने जा रही है।

बिहार विधानसभा चुनाव के तीसरे और आखिरी चरण के लिए मतदान शनिवार को मतदान हो रहा है। आखिरी चरण में 15 जिलों की 78 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान हो रहा है। 78 विधानसभा क्षेत्रों से कुल 1204 उम्मीदवारों की किस्मत आज ईवीएम में कैद हो जाएगी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आखिरी चुनाव संबंधी बड़े एलान से सियासी माहौल गरमाया हुआ है। पक्ष और विपक्ष के नेता इस एलान के नफा-नुकसान का आकलन करने में लगे हुए हैं।

बिहार में विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान के प्रचार के आखिरी दिन केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान पर जमकर हमला बोला है और पड़ोसी मुल्क को यह साफ स्पष्ट कर दिया है कि पीओके भारत का ही रहेगा। 

चुनाव प्रचार के अंतिम दिन सभी दलों ने अपने-अपने प्रत्याशियों की जीत सुनिश्चित करने के लिए पूरी ताकत झोंकने की तैयारी की है। आखिरी चरण में सर्वाधिक 23 सीटों पर राजद और जदयू प्रत्याशी आमने-सामने होंगे जबकि भाजपा और राजद का मुकाबला 20 सीटों पर होगा।