bjp government

राष्ट्रीय लोक दल अपनी खोई हुई जमीन को तलाशने के लिए जगह जगह किसान पंचायत के माध्यम से अपनी राजनीति की जमीन तलाशने की कोशिश कर रहा है रालोद नेता जयंत चौधरी हर किसान पंचायत में जाकर भाजपा सरकार पर हमले कर रहे हैं और लोगों को राष्ट्रीय लोक दल से जुड़ने का प्रयास कर रहे हैं।

पश्चिमी क्षेत्र और खासकर दिल्ली के आसपास के इलाकों के विशेषज्ञों की राय कुछ और ही है। इस संबंध में वह कहते हैं कि आंदोलन कर रहे किसानों को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि फसल तैयार है या फसल बोनी है। भाजपा सरकार ने बहुत गलत पंगा ले लिया है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रविवार को बयान जारी कर केंद्र सरकार की लैटरल भर्ती योजना का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा खुले आम अपनों को सरकारी सिस्टम में लाने के लिए पिछला दरवाजा खोल रही है।

रेल मंत्रालय भारत सरकार के सबसे बड़े मंत्रालयों में से एक है। आम बजट से पहले हर साल रेल बजट किया जाता था। देश का पहला रेल बजट वर्ष 1924 में पेश किया गया था, लेकिन मोदी सरकार ने साल 2016 में इस परंपरा को बदल दिया।

अखिलेश होटल की बालकनी में खड़े होकर चाय की चुस्कियां ले रहे थे कि लोगों की भीड़ उनसे मिलने पहुंचने लगी। उनके सिक्योरिटी गार्ड ने धक्का दिया जिस पर उन्होंने फटकार लगाई। इस बीच यहां मीडिया से अखिलेश ने बात किया।

महाराष्ट्र की राजनीति में एक बार फिर राजनीति हलचल तेज़ हुई है। केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे पाटिल ने ये दावा किया है कि राज्य में बहुत जल्द बीजेपी सरकार बन सकती है। इसी बात पर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने अपनी प्रतिक्रिया दी है।

समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने कहा है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो गई है , चारों तरफ भय और अराजकता का माहौल है , कोई भी सुरक्षित नहीं है , प्रदेश में जंगलराज कायम है ।

पुलिस का काम सिर्फ निर्दोषों को फसाना व पीड़ितों से धन वसूली करना ही रह गया है। भाजपा सरकार में कानून व्यवस्था पूरी तरह से फेल हो गई है।

देश के लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कोरोना के बारे में वह बयान अच्छी तरह याद है जिसमें उन्होंने लोगों से घरों में रहकर पूजा-पाठ और नमाज अदा करने की अपील की थी।

केंद्र की मोदी सरकार ने अहम बिल पास किए। जिससे किसान बिचौलियों से मुक्त होंगे। पहले किसान मंडी तक ही सीमित था। यह नया कृषि बिल आ जाने से किसान पूर्ण रुप से स्वतंत्र हो गया है।