corona-epidemic

पीएम मोदी ने स्वास्थ्यकर्मियों पर हो रहे हमलों को लेकर चेतावनी दी। कोरोना वायरस महामारी के कारण इस कार्यक्रम का आयोजन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया गया।

दुनिया भर में  कोरोना वायरस अपना कहर बरपा रहा है। पूरी दुनिया इस महामारी से निपटने में जुटी हुई है। इस बीच WHO ने कहा है कि इस वायरस पर 4 से 5 सालों में काबू पाया जा सकेगा।

प्रदेश में महामारी से निपटने के लिए अब जनपद के पांचों तहसीलों के ग्राम पंचायत स्तर पर निगरानी समिति का गठन किया जाएगा। यह समिति स्थानीय स्तर पर काम करेगी।

आज शहरों से पलायन करके गांव आ रहे लोगों में यदि कोई कोरोना पाजिटिव निकल आता है तो उसे अपराधी नहीं मानना चाहिए वह किसी के भी घर का हो सकता है। हां हमें बाकी नियमों सामाजिक दूरी का पालन करना चाहिए और लोगों से करवाना भी चाहिए।

भारतीय रिजर्व बैंक ( RBI ) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा है कि भारत आर्थिक दृष्टिकोण से आजादी के बाद के सबसे बड़े आपातकाल के दौर में है। सरकार को इससे निकलने के लिए विपक्षी दलों समेत विशेषज्ञों की मदद लेनी चाहिए।

कोविड-19 महामारी के चलते आ रही मुश्किलों के मद्देनज़र आरबीआई ने अपने एक बयान में कहा कि वर्तमान में निर्यातकों द्वारा वस्तुओं तथा सॉफ्टवेयर निर्यात की पूरी राशि को निर्यात की तारीख से नौ महीने के भीतर देश में लाना होता है।

भारत के सन्दर्भ में देखा जाए तो 24 जनवरी को "शनि" का मकर राशि मे प्रवेश हुआ। यहां पहले से ही विराजमान सूर्य से शनि की नैसर्गिक शत्रुता है। इसी कारण महामारी का पहला मामला 30 जनवरी को सूदूर दक्षिण के राज्य केरल में दिखाई देता है।

DM शुभ्रा सक्सेना के निर्देश पर दुकानों के पास गोला बनाकर उसमें खड़े होकर खरीदारी का तरीका निकाला, इस महामारी से बचने के लिए यह नए तरीके है।

कोरोना वायरस को लेकर पूरे देश में स्वास्थ्य आपातकाल लागू है। यहां तक कह दिया गया है कि इलाज से भागने वाले व्यक्ति को हिरासत में लिया जा सकता है। ऐसे में यह जानना जरूरी हो जाता है कि कोरोना से बचाव के लिए क्या करें। अगर किसी को कोरोना का संक्रमण हो जाए, तो क्या करें। इससे घबड़ाने या भागने की जरूरत नहीं है।