corona virus vaccine in india

कोरोना वायरस की वैक्सीन का सबको बेसब्री से इंतज़ार है। एक बात तय है कि वैक्सीन जब भी आयेगी तो भारत बाकी देशों से बेहतर स्थिति में होगा। क्योंकि हमारे यहाँ की कम्पनियाँ पूरी दुनिया में वैक्सीन की सबसे ज्यादा सप्लाई करती हैं।

दुनियाभर में कोरोना वायरस वैक्सीन का लोगों को बेसब्री से इंतजार है। ऐसे में कोरोना वायरस के लिए वैक्सीन कोरोफ्लू को और ज्यादा बूशटिंग ताकतवर बनाने के लिए भारत बायोटेक कंपनी ने वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन से समझौता किया है।

कोरोना की वैक्सीन के इंतजार में कई महीने बीत गए। ऐसे में रूस की कोरोना वायरस वैक्सीन को भारत में बेचने के लिए भारत की बड़ी फार्मा कंपनी डॉ. रेड्डीज के साथ समझौता हो गया है।

दिल्ली स्थित एम्स में भारत की संभावित वैक्सीन कोवैक्सिन (Covaxin) का ह्यूमन ट्रायल दो हफ्ते पहले ही शुरू किया गया है, लेकिन अब इसमें एक समस्या आ गई है।

जैव प्रौद्योगिकी विभाग की सचिव डॉक्टर रेणु स्वरूप ने जानकारी देते हुए बताया कि पीएम केयर्स फंड से 100 करोड़ रुपये कल ही जारी किए गए हैं।