defense minister rajnath singh

एक विडियो सामने आया हैं जिसमें भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह दिख रहे हैं।

रक्षा मंत्री ने कहा कि यह समय है जब यह सदन अपने सशस्त्र सेनाओं के साहस और वीरता पर पूर्ण विश्वास जताते हुए उनको यह संदेश भेजे कि यह सदन और सारा देश सशस्त्र सेनाओं के साथ है जो भारत की संप्रभुता एवं सम्मान की रक्षा में जुटे हुए हैं।

चीन से चल रही तनातनी के चलते देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह इन दिनों रूस के दौरे पर हैं। बृहस्पतिवार को राजनाथ सिहं ने रूस के रक्षा मंत्री से मुताकात की थी। ऐसे में दोनों देशों के बीच तमाम अहम मुद्दों पर चर्चा हुई और समझौता भी हुआ।

शुक्रवार को रक्षा मंत्री राजनाथ चीन के रक्षा मंत्री वे फेंग से मुलाकात कर सकते हैं। चीन ने इस मुलाकात के लिए समय मांगा है, जिसे भारत स्वीकार कर सकता है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत हमेशा जमीन को नहीं बल्कि दिलों को जीतने में विश्वास रखता रहा है। लेकिन इसका यह मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए कि हम किसी भी देश को अपने आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाने की आजादी देंगे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि राफेल लड़ाकू विमान नई तकनीक से लैस है, जो भारतीय वायुसेना को नई तरह की शक्ति देगा। जो भी शक्तियां भारत की जमीन पर गलत नजरें रखती हैं उन्हें अब भारतीय वायुसेना की शक्ति को देखकर विचार करना होगा।

राफेल विमान, फ्रांस की डेसाल्ट कंपनी द्वारा बनाया गया 2 इंजन वाला लड़ाकू विमान है। राफेल लड़ाकू विमानों को ओमनिरोल विमानों के रूप में रखा गया है, जो कि युद्ध के समय अहम रोल निभाने में सक्षम हैं।