drdo

भारतीय कस्टम अधिकारियों ने गुजरात के कांडला बंदरगाह (Kandla Port) पर 3 फरवरी को चीन के एक शिप को कब्जे में लिया था। जांच के बाद रक्षा अनुसंधान और...

इस डेवलपमेंट के बाद भारतीय वैज्ञानिकों को स्वदेशी एंटी मिसाइल प्रणाली पर खतरे के बादल नजर आने लगे हैं। वैज्ञानिक सूत्रों का कहना है कि चाहे सेना हो या वायुसेना और नौसेना। तीनों सैन्यबल अग्नि, पृथ्वी, आकाश, नाग जैसी मिसाइलों को छोड़ दिया जाए तो

उच्च ऊर्जा सामाग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (HEMRL) डीआरडीओ की प्रयोगशाला है जो मिसाइलों, रॉकेटों और बंदूकों के लिए आवश्यक उच्च ऊर्जा सामाग्री की रेंज/स्पेक्ट्रम के विकास में काम कर रही है।

कर्नाटक का यह प्रवास और 2020 का यह पहला प्रवास जय जवान जय विज्ञान जय किसान जय अनुसंधान, न्यू इंडिया की भावना पर समर्पित है। यह आयोजन एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट इस्टबलिशमेंट में हो रहा है।

डीआरडीओ ने आज दोपहर पिनाका मिसाइल सिस्टम का सफल परीक्षण किया। ये रीक्षण ओडिशा के तट पर चांदीपुर रेंज से किया गया। पिनाका एक आर्टिलरी मिसाइल सिस्टम है जो 75 किलोमीटर की दूरी तक सटीक निशाना लगाने में सक्षम है।

पहली मिसाइल का प्रक्षेपण ओडिशा के एक लैंड बेस्ड मोबाइल लांचर से हुआ था, जिसमें अधिकांश उपकरण स्वदेशी थे। इसमें मिसाइल एयर फ्रेम, फ्यूल मैनेजमेंट सिस्टम को डीआरडीओ ने डिजाइन किया था।

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने मंगलवार को स्वदेशी तकनीक को बड़े पैमाने पर बढ़ाने की वकालत की। उन्होंने कहा कि भारत अगला युद्ध देश में ही विकसित हथियारों के साथ लड़ेगा और जीतेगा।

नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। एयरोनॉटिकल डवलपमेंट स्टैब्लिशमेंट, बेंगलुरु ने जूनियर रिसर्च फेलो और रिसर्च एसोसिएट के 10 पदों पर वैकेंसी निकाली है। यह संस्थान डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) का उपक्रम है।

उड़ान के दौरान चित्रदुर्ग जिले के जोडीचिकेनहल्ली में सुबह 6 बजे रुस्तम-2 विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ। इस विमान को तापस बीएच-201 भी कहते हैं। DRDO का एक अनमैन्ड एरियल व्हीकल यूएवी कर्नाटक में क्रैश हो गया। विमान अपनी परीक्षण उड़ान पर था।

कर्नाटक में एक अनमैन्ड एरियल व्हीकल (यूएवी) मंगलवार सुबह हादसे का शिकार हो गया है। यह यूएवी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) का था।