earth

मानव सभ्यता का वो सबसे बड़ा दिन कोई कैसे भूल सकता है, वो दिन था जब अमेरिका की नासा ने 16 जुलाई, 1969 को मिशन 'अपोलो 11’ के तहत चंद्रमा पर पहली बार नील आर्मस्ट्रांग और एडविन एल्ड्रिन को भेजा था। जब किसी इंसान ने पहली दफा चांद पर कदम रखा था।

ब्रह्मांड का एक क्षुद्रग्रह (पत्थर का विशाल टुकड़ा) पृथ्वी की तरफ तेजी से बढ़ रहा जो आने वाले दिनों में धरती के लिए मुसीबत बन सकता है। इस क्षुद्रग्रह (एस्टेरॉयड) को 2000 QW7 का नाम रखा गया है। अगर यह पृथ्वी से टकराता है तो पूरी दुनिया में भारी तबाही मच सकती है।

भारत ने चंद्रयान 2 मिशन की लॉन्चिंग के साथ ही स्पेस टेक्नॉलजी के क्षेत्र में एक और इतिहास रच दिया है। इससे पहले 11 साल पहले इसरो ने अपने पहले चंद्रयान-1 का सफल परीक्षण किया था। चंद्रयान 2 मिशन के लिए 976 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं।

हाल ही में प्रक्षेपण के दौरान हुई दुर्घटना के बाद अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) से पहला चालक दल मंगलवार को धरती पर लौट आया। प्रक्षेपण के दौरान हुए हादसे के बाद रूसी अंतरिक्ष कार्यक्रम की वापसी को लेकर संशय बना हुआ था। 

नई दिल्ली। पृथ्वी के भौगोलिक ध्रुवों और चुंबकीय ध्रुवों में अंतर है। इस अंतर की सटीक गणना से जीपीएस काम करता है लेकिन पृथ्वी का चुंबकीय उत्तरी ध्रुव बड़ी तेजी से खिसक रहा है। वैज्ञानिक वल्र्ड मैग्नेटिक मॉडल के नए अपडेट की तैयारी कर चुके हैं। पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र में तेजी से आ रहा …

टोक्यो। अंतरिक्ष में जीवन की तलाश में जुटे वैज्ञानिकों ने बड़ा खुलासा किया है। जापान के वैज्ञानिकों ने अपने शोध में 15 नए ग्रहों के खोजे जाने का दावा किया है। वैज्ञानिकों को इनमें से एक ग्रह पर पानी मौजूद होने की संभावनाएं भी दिखी हैं। इससे पहले भी वैज्ञानिक अंतरिक्ष में मौजूद कुछ ग्रहों …

नयी दिल्ली। रामसेतु एक बार फिर चर्चा में है। अमेरिका के साइंस चैनल ‘व्हाट ऑन अर्थ’ ने एक शोध में दावा किया है कि भारत और श्रीलंका के बीच जो पुल है वो मानव निर्मित ही है। साफ है कि इस शोध से एक बार फिर रामसेतु की भारतीय पौराणिक अवधारणा को बल मिला है …

जयपुर:पृथ्वी की कक्षा में मौजूद सैटेलाइट से मात्र 7 हजार किमी की दूरी से धातु और पत्थरों से बना एक विशाल एस्टेरॉयड आज गुरूवार को गुजरेगा। इसके पृथ्वी से करीब 42 हजार किलोमीटर की दूरी से गुजरने का अनुमान हैं जबकि 36 हजार किलोमीटर की ऊंचाई पर सैकड़ों सैटेलाइट्स हैं। यह भी पढ़ें…भारत छोड़ो आंदोलन: सोनिया …

लखनऊ: होली का त्योहार आ चुका है। सत्ता भी आ चुकी है। अब समय है मन की बुराइयों और द्वेषों को जलाने का। हिंदू पंचांग के अनुसार इस साल होलिका दहन 12 मार्च को शाम 6:30 बजे से 8:35 तक किया जा सकता है। हिंदू धर्म ग्रंथ के अनुसार, होलिका दहन सूर्यास्त के बाद जब …

केप कनावरल: अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आइएसएस) ने सोमवार को धरती के एक लाख चक्कर पूरे कर लिए। यह जानकारी रशियन मिशन कंट्रोल की ओर से दी गई। रूसी-अमेरिकी सहयोग का प्रतीक आईएसएस का कंट्रोल सेंटर मॉस्को में स्थित है। इस सेंटर ने एक बयान में कहा कि आईएसएस ने धरती के एक लाख चक्कर पूरे …