economic package

कोरोना वायरस संकट के बीच एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार रात 8 बजे राष्ट्र को संबोधित किया। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के लिए 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का एलान किया।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज शाम 4 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज के बारे पूरी जानकारी देंगी। इस दौरान वह ये बताएंगी कि इस राहत पैकेज में किस वर्ग के लिए कितना दिया जाना है।

राहत पैकेज से सबसे ज्यादा उम्मीद रखने वाला उद्योग वर्ग काफी उत्साहित हैं। उनका मानना है कि उद्योग वर्ग के लिए यह महापैकेज न केवल कोरोना संकट से उबरने बल्कि वैश्विक ताकत बनने में भी मददगार होगा।

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार के हर निर्णय में देश और देशवासियों का हित केंद्र में रहा है। मोदी सरकार की तरफ से घोषित किया गया लगभग 20 लाख करोड़ रुपये का विशेष पैकेज इसका परिचायक है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विशेष आर्थिक पैकेज 'आत्मनिर्भर भारत अभियान' की घोषणा की। जो भारत की कुल जीडीपी का 10% के आसपास है। आरबीआई पैकेज और इसे जोड़ दें तो ये 20 लाख करोड़ रुपये का है।

कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन में भारत सरकार प्रभावित लोग, गरीबों, मजदूरों आदि के लिए राहत पैकेज की घोषणा पहले ही कर चुके है, वहीं अब मोदी सरकार एक और बड़े राहत पैकेज का एलान कर सकती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना से लड़ने के लिए 22 मार्च यानी कि आज जनता कर्फ्यू का ऐलान किया था। जहां पूरा देश जनता कर्फ्यू का पालन कर रहा है और कोरोना से बचने के प्रयास में लगा है, वहीं इसी बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कोरोना वायरस की वजह से कमजोर हुई भारतीय अर्थव्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं।