iran

ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावद जरीफ की इराक यात्रा के दौरान इराकी नेताओं ने युद्ध के खतरे को लेकर चेतावनी दी है। ईरान का अमेरिका से बड़ा टकराव चल रहा है। जरीफ की इराक यात्रा अमेरिका द्वारा पश्चिम एशिया में करीब 1500 अतिरिक्त सैन्यबल तैनात करने के फैसले के बाद हो रही है।

अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बरकरार है। विदेश नीति के मोर्चे पर भारत के सामने ईरान से बड़ी चुनौती है। कूटनीतिक रूप से देखें भारत के लिए यह एक तूफान की तरह है। अगर ईरान और यूएस के बीच तनाव युद्ध में बदलता है, तो इसकी वजह से 70 लाख भारतीयों परिवारों की जिंदगी बुरी तरह प्रभावित हो सकती है।

वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान की ओर से किसी भी तरह की उकसावे की कार्रवाई से ‘‘पूरी ताकत’’ से निपटने की धमकी दी है। हालांकि उन्होंने ईरान के साथ बातचीत करने की इच्छा भी जाहिर की है। ट्रंप ने सोमवार शाम पत्रकारों से कहा, ‘‘ अगर वे कुछ करते हैं तो उससे …

जरीफ ने अपनी चीन यात्रा के अंत में सरकार संचालित समाचार एजेंसी इरना से कहा, ‘‘हमें यकीन है...कोई युद्ध नहीं होगा क्योंकि न तो हम युद्ध चाहते हैं और न ही कोई भी इस भ्रम में है कि वह क्षेत्र में ईरान से लड़ सकता है।’’

अमेरिका और ईरान के बीच तनाव जारी है। इस बीच ईरान ने कहा है कि वह आसानी से खाड़ी देशों में अमेरिकी जहाजों को निशाना बना सकता है। हाल के दिनों में वॉशिंगटन और तेहरान के बीच तनाव अपने चरम पर है।

अमेरिकी राजनयिकों ने शनिवार को चेतावनी दी कि फारस की खाड़ी के ऊपर से गुजरने वाली वाणिज्यिक उड़ानों को जोखिम का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि उसके (अमेरिका) और ईरान के बीच तनाव बढ़ गया है।

पेंटागन ने एक बयान में कहा, ‘‘अमेरिकी बलों और हमारे हितों के खिलाफ अभियान चलाने की ईरान की व्यापक तैयारियों के संकेतों के बीच जवाबी कार्रवाई के लिए यह हथियार प्रणाली पश्चिम एशिया में यूएसएस अब्राहम लिंकन कैरियर स्ट्राइक ग्रुप और अमेरिकी वायुसेना बमवर्षक कार्यबल की मदद करेगी।’’

अमेरिका के रक्षा विभाग ने शुक्रवार को घोषणा की ईरान से कथित खतरे का मुकाबला करने के लिए वह पश्चिम एशिया में एक युद्धपोत और पैट्रियाट मिसाइलों की तैनाती कर रहा है तथा यह आयुध पहले भेजे जा चुके विमानवाहक पोत की मदद करेगा।

‘आईआरएनए’ ने बताया कि आग पर काबू पाने में छह घंटे लगे। 5500 दुकानों के बाजार की लगभग 150 दुकानें क्षतिग्रस्त हुई हैं।

विमानन कंपनी ‘जून’ का एयरबस ए340 विमान ईरान के इस्फ़हान शहर में उतरा।