iran

दुनिया के कई देश कोरोना से जंग में मशक्कत कर रहे हैं। अमेरिका भी चपेट में है लेकिन वह अब तक दो देशों को मदद की पेशकश कर चुका है। पहले उसने चीन से कहा था लेकिन उसकी पेशकश ठुकरा दी गई। अब उसने इस देश को....

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए दो सप्ताह के आपातकाल की घोषणा इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में हुई है। सोमवार से सार्वजनिक मनोरंजन के साधनों पर रोक लगा दिया गया है, साथ ही सार्वजनिक परिवहन सीमित कर दिया है।  

अब तक पूरी दुनिया में 170 से ज्यादा देशों में फैले कोरोना वायरस की वजह से 9,020 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले 24 घंटे में कोरोना से 712 लोगों की मौत हुई है। कोरोना की चपेट में सबसे ज्यादा चपेट में यूरोप आया है।

कोरोना वायरस के खतरे को लेकर पाकिस्‍तान में भी दहशत का आलम है। पाकिस्‍तान की कोशिश है कि कोरोना वायरस उसके मुल्‍क में दाखिल नहीं होने पाए। इसके लिए पाकिस्‍तान ने ईरान से लगने वाली सीमा पर वायरस से संक्रमित होने की आशंका में कम से कम 200 लोगों को अलग थलग रख दिया है।

ईरान से कोरोना वायरस की जो जानकारी निकलकर सामने आ रही है वो ये है कि इस वायरस की चपेट में आने से यहां पर 135 लोगों की जान चली गई है। दुनिया के कुछ देशों में हालात इस कदर खराब हो गये हैं कि वहां पर कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए आदमी नहीं मिल रहे हैं। 

चीन से फैले कोरोना वायरस की चपेट में आज दुनिया भर के 120 से ज्यादा देश आ चुके हैं। वहीं दुनियाभर में अब तक 7 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं और करीब 3 लाख लोग इस वायरस की चपेट में है।

ईरान के सर्वोच्च नेता का चुनाव करने वाले शीर्ष धार्मिक संगठन के 78 वर्षीय सदस्य आयतुल्ला हाशीम बाथेई की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत हो गई।

ईरान में तैनात भारतीय वैज्ञानिक वहां फंसे भारतीय नागरिकों की नोवल कोरोना वायरस की जांच के लिए एक अस्थाई प्रयोगशाला स्थापित करने के लिए ईरानी अधिकारियों से अनुमति मांग रहे हैं, लेकिन अधिकारियों द्वारा सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए ऐसा करने की अनुमति नहीं दी गई है।

कोरोना वायरस की शुरुआत चीन के वुहान से हुई थी। उसके बाद अब दुनिया के 111 देशों में इस वायरस ने अपने पैर पसार लिए हैं। चीन के बाद इस वायरस ने सबसे अधिक नुकसान इटली और ईरान को पहुंचाया है।

लखनऊ: भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने हाल में कहा कि ‘हमें पता चल रहा है कि असल में हमारे दोस्त कौन हैं।’ जयशंकर का ये बयान दिल्ली के दंगे के बारे में ईरान की तीखी प्रतिक्रिया पर था। दरअसल, ईरान इधर काफी समय से भारत विरोधी तेवर अपनाए हुए है। इसके पीछे कई …