latest hindi news uttar pradesh

उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्धनगर में भयानक सड़क हादसा हो गया है। शनिवार सुबह इस भीषण हादसे में चार लोगों की मौत हो गई है। जबकि एक शख्स गंभीर रूप से घायल हो गया है। बता दें, ये हादसा यमुना एक्सप्रेसवे पर इनोवा कार रोडवेज बस में पीछे से जा घुसी।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यहां अपने सरकारी आवास पर संविधान दिवस के अवसर पर संविधान की उद्देशिका का पाठन राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द के सान्निध्य में वर्चुअल माध्यम से किया।

लखनऊ मण्डल से विधान परिषद् सदस्य पद की उम्मीदवार कांति सिंह एक बार चुनाव जीतने की होड़ में जुट गईं हैं। मंगलवार को लखनऊ पब्लिक स्कूल में आयोजित प्रेसवार्ता में उन्होंने कहा है पूरी निष्ठा से पिछले कार्यकाल में जनसेवा की है।

कोरोना वायरस ने तकरीबन पूरी दुनिया में हाहाकार मचा दिया। शायद ही कोई तबका हो जो इससे प्रभावित न हुआ हो। ऐसे में देश के नामचीन विश्वविद्यालयों में शुमार महामना की बगिया यानी बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में भी कोरोना संक्रमण के कारण पठन-पाठन पूरी तरह से ठप पड़ा हुआ था।

मछलियों का अति दोहन न किया जाय क्योंकि इससे मत्स्य प्रजातियों के नष्ट होने का खतरा है। प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना एक महत्वाकांक्षी योजना है। इससे पूरे देशभर में 55 लाख लोगों को रोजगार मिला है। मत्स्य पालन लाभदायक व्यवसाय है।

औरैया में रात के समय चोरों ने एक घर को निशाना बना लिया। जिसमें चोरों द्वारा महिला को बंधक बनाकर तमंचे के बल पर उसे तिजोरी की चाबी हासिल की। उसके बाद जेवरात व नगदी सहित सामान लूट ले गए।

जहरीली शराब के इस्तेमाल से हाल ही में हुई मौतों को लेकर प्रियंका गांधी ने एक  बार फिर योगी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने शनिवार को योगी सरकार से पूछा कि आखिर इन मौतों का जिम्मेदार कौन है?

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 22 नवम्बर को जल जीवन मिशन, उत्तर प्रदेश के तहत विंध्य क्षेत्र के मिर्जापुर एवं सोनभद्र की 23 ग्रामीण पाइप पेयजल योजनाओं का शिलान्यास वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे।

पूर्व केंद्रीय मंत्री राधामोहन सिंह सक्रिय हो गए हैं. राधा मोहन सिंह के सामने पहली चुनौती एमएलसी चुनाव है, जहाँ बीजेपी कि साख दांव पर लगी है. चुनाव में जीत के लिए पार्टी ने पूरी ताकत झोंक दी है.

यूपी में विधानपरिषद चुनावों के लिए वैसे तो सभी दल जी जान से जुट गए हैं। लेकिन सत्ताधारी भाजपा इन चुनावों को लेकर बेहद गंभीर है। विधान परिषद् में अपनी ताकत और बढ़ाने का उसके लिए ये अच्छा मौका है।